लिखते-लिखते

1
Read Time1Second
jitendra chouhan
16,14 की यति पर
तनिक नहीं संदेह भक्ति पर,
                      गर्व सदा कुर्बानी का|
लिखते लिखते चूक गया तू,
                  सच में सार कहानी का||
हे बादल उस दिन यदि तूने,
                  चेतक याद किया होता|
दिशा,दशा अब बदली होती,
              कुछ पल साथ दिया होता||
रानी को तू प्यारा था अरु,
                   रानी तुझको प्यारी थी|
सत्य बता उस समर भूमि में,
                    रानी किससे हारी थी||
दो क्षण सांसे रोकी होती,
             सिर झुकता अभिमानी का|
लिखते-लिखते……………….……….||
तेरे ऊपर दुर्गा थी अरु,
                   पृष्ट भाग पर दीपक था|
भारत की स्वर्णिम गाथा का,
                   शब्द-शब्द उद्दीपक था||
ये मन धीरज खोता है,
                 निज से सबला छली गई|
तस्वीरें कहती है कुछ तो,
                  मूक बधिर हो चली गई||
जब तक सूरज चंदा धरती,
                        गान रहे मर्दानी का|
लिखते-लिखते चूक…………………….||
 है प्रश्न तुझी से हे!तड़ाग,
                तू भी कुछ कर सकता था|
सोखा होता पानी खुद में,
                 लघुता को धर सकता था||
विजय वरण रानी को करती,
                     गाथा गूंजे अम्बर में||
काश!अगर ऐसा कर लेता,
                     होती पूजा घर-घर में||
लिखे गये है पृष्ट बहुत से,
                    जुड़ता अर्थ रवानी का|
लिखते-लिखते……………….…………..||
कैसा वह समय रहा होगा,
                    धरती माँ ओ धरती माँ|
अम्बर तू ही फट जाता तब,
                     रौद्ध रूप धर लेती माँ||
दीनबंधु तुम ही आकर तब,
                    उसका साथ निभा देते|
बनकर रानी की परछाई,
                रिपु को सबक सिखा देते||
तनिक सहारा  जो पाती तो,
                    रखती रूप भवानी का|
लिखते-लिखते……………….………….||
#जितेन्द्र चौहान “दिव्य”
0 0

matruadmin

One thought on “लिखते-लिखते

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

जयकार

Thu Jun 28 , 2018
बैठ जाता हूँ   अक्सर थक हार कर जब चला न जाये तो पैर  पसार कर रुकने का मतलब ये नहीं की हम डर गए काँटों पर चल कर पहुँचते है मंजिल के उस पार और तभी होती है  जग में जय जयकार चाह मोतियों की सागर में उतरा कई बार मिले हो रतन […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।