1.👩 बेटी घर री लाडली, माँ बापाँ रो चैन। दिनकर छाया धूप जिमि, तारा छाई रैन।। 2.👩 बेटी घर री लिच्छमी , सरस्वती रो रूप। नव दुर्गा रो भेष या, जमना गंग सरूप।। 3.👩 बेटी घर री देहरी , दादा दादी साथ। प्रात नमन दोपहरिया, संध्या बाती हाथ।। 4.👩 बेटी […]

आदि भवानी मात, वही दुर्गे नव रूपा। भजते जो मन भाव,भिखारी जन या भूपा। नौ दिन के नौ रूप, धरे सुन्दर जग माता। महा पर्व नवरात्रि, दशहरे पहले आता। . ✨✨✨✨ श्राद्धपक्ष के बाद,दिवस जो पहला आता। सब के मन सद्भाव, मातृ पूजा को भाता। बेटी बहिनें मात, पराई सब […]

नारी रत्न अमूल्य धरा पर। ईश्वर रूप सकल सचराचर।। राम कृष्ण जन्माने वाली। सृष्टि धर्म की सत प्रतिपाली।।१ . ✨✨✨✨ बेटी बहिन मात अरु दारा। हर प्रतिरूप मनुज उद्धारा।। नारी जग परहित तन धारी। सुख दुख पीड़ा सहे दुधारी।।२ . ✨✨✨✨ द्वय घर की सब जिम्मेदारी। बिटिया वहन करे वह […]

रखूँ किस पृष्ठ के अंदर, अमानत प्यार की सँभले। भरी है डायरी पूरी, सहे जज्बात के हमले। गुलाबी फूल सा दिल है, तुम्हारे प्यार में पागल। सहे ना फूल भी दिल भी, हकीकत हैं, नहीं जुमले। . 🥬🥬🥬 सुखों की खोज में मैने, लिखे हैं गीत अफसाने। रचे हैं छंद […]

चौपाई सममात्रिक छंद है। इसमें चार चरण होते हैं। प्रत्येक चरण में १६,१६ मात्राएँ होती हैं। चरणान्त २२ हो २२ के विकल्प में ११२, २११,११११ भी मान्य है। चरणांत में गुरु के बाद लघु (२१) न हो। कल संयोजन का ध्यान रखें। उदाहरण.. ईश मनुज धन सत्ता नारी। २१ १११ […]

. रोला छंद २४ मात्रिक छंद होता है। विषम चरणों में ११ मात्रा और चरणांत २१ से होता है। सम चरणों में १३ मात्रा और चरणांत २२ से होता है। समचरणांत में २२ का विकल्प:-११२,२११,११११भी मान्य है। दो,दो सम चरणों में समतुकांत हो। उदाहरण…. . 🇮🇳 तिरंगा 🇮🇳 मातृ भूमि […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।