जीत की ही राह चली न हारती रही शान है वो हिन्द की भारती रहीं शक्ति के रूप में देखा है सभी ने मुश्किलों में दिन भी वो गुजारती रहीं माँ का वो बहन का वो भगवान रूप है होती रहीं पूजा कभी ,आरती रहीं बच्चों को पढ़ाया और सम्मान […]

देश के देखो ऐसे अब हालात है अच्छे दिन सिर्फ कहने की बात है अफसर बिक गए,बिक रहे नेता भी हो रही सब तरफ मुक्का लात है मौसम पर भी अब भरोषा नहीं हो रही देखो बेमौसम ये बरसात है सो गया देख लो और ज़मीर मर गया आदमी की […]

वो पीपल बहुत ही छाँव देता है सुकून मुझको मेरा गाँव देता है चला आया आज शहर से दूर बच्चा हो या बूढ़ा लगाव देता है लगा लेते गले से किस्से सुनाते है नहीं कोई भी यहां घाव देता है नदी का किनारा वो खूबसूरत पल कोई नहीं यहां टकराव […]

चाटूकार नहीं हम कलमकार हैं कलम के प्रति हम वफ़ादार हैं सच लिखने का हमने जज्बा रखा कवि शायर ही नहीं जिम्म्मेदार हैं दिखावा जरा भी फितरत में नहीं लिखेंगे वही जो भी असरदार है जरूरी तो नहीं मंच पर ही मिलेंगे जज़्बात पढ़ लो खुला अखबार है खोल कर […]

ज़माना मुझे आजमाता गया मगर मैं हमेशा मुस्कुराता गया मुझे जो समझ लें वो मिलते नहीं ग़मों को अकेला उठाता गया सभी दोस्त मेरे ,न दुश्मन कोई मिला जो गले से लगाता गया लबों पर हँसी की अदाएँ रखे, ग़ज़ल मैं नई गुनगुनाता गया ज़रा मस्तियाँ देख अंदाज में ज़माने […]

शह कभी मात पर लिखो यारों मुद्दे की बात पर लिखो यारों कैसे कटते हैं गरीबों के दिन कैसे कटती,रात पर लिखो यारों तूफान कहीं , कहीं पर सूखा है कुछ तो बरसात पर लिखो यारों चोर उचक्कों का क्यों जमघट हैं बदले ख़यालात पर लिखो यारों रोटी के टुकड़ों […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।