भूल गए हम क ख ग घ, भूल गए हम गिनती। मैडम जी आकर याद दिलाओ, आज करें हम विनती। गुम हो गईं कॉपी किताबें, गुम हो गया बस्ता। घर से स्कूल जाने का, भूल गए हम रस्ता। मैडम जी हमें बुलाने आओ, आज करें हम विनती। भूल गए……… ड्रेस […]

हमें दूध दही घी खाना है, भारत को स्वस्थ बनाना है। दूध नहीं ये अमृत है, नित इसको हमें पी जाना है। पोषक तत्वों की खान है ये, हमें जन जन को समझाना है। ना करना कोई बहाना है, भारत को को स्वस्थ बनाना है। हमें दूध………….. चाहे खीर बनाओ […]

आओ, मिलकर विश्वास की एक नई अलख जगाएं जो छूट रूठ गए हैं उन्हें एक धागे में फिर से पिरोएं ना कोई दुखी हो ना कोई भी रोने पाए आओ, मिलकर एक नए भोर का गीत गाएं चारों दिशाओं में है मौत का तांडव मचा ऐसे खूंखार कोरोना से कोई […]

नकारात्मकता मन से निकालो सकारात्मकता मन मे बसा लो परिवर्तित जीवन हो जायेगा सबकुछ अच्छा हो जाएगा नकारात्मकता जीवन पर भारी तनाव करता हम पर सवारी बीमारियो को निमन्त्रण देता शांति मन की हर लेता सारी सकारात्मकता अच्छा बनाती जीवन मे खुशिया ही आती कोई पराया न रहे जगत मे […]

भारत में उर्दू भाषा का स्थान १९८१ की जनगणना में समग्र रूप से छठा है, जिसमें ३५ मिलियन से अधिक वक्ता हैं, जिनमें से अधिकांश उत्तर भारतीय राज्यों में केंद्रित हैं। इस लेख का हिस्सा : भारत में उर्दू भाषा का स्थान समग्र रूप से देश में छठा स्थान है। […]

जन्म दिया जिन्होंने,उन्हे कल भुला ना देना, हंस रहे हैं जो आज,उन्हे कल रुला ना देना।। सिखाया है जिन्होंने,उंगली पकड़ कर चलाना, कल उनके सपनों को मिट्टी में मिला ना देना। खिलाया है जिन्होंने तुम्हे खुद भूखा रहकर, उन्हें कभी भूल से भूखा मत सुला ना देना। पढ़ाया लिखाया है […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।