कविता- बड़ा बनने की कोशिश में मैं

0 0
Read Time1 Minute, 3 Second

जीवन के उत्तरार्द्ध पर उतरते हुए
अपनों-परायों के बीच खेलते हुए
अब मुझमें भी बड़ा बनने की इच्छा जाग रही है
यह हुनर सीखना भी आसान नहीं
चूंकि मुझे सीखना था इसलिए गुरु भी ढूंढ लिए
आप सोच रहे होंगे
इसके लिए मुझे ज्यादा भटकना पड़ा
अरे नहीं जी, सब मेरे पास के थे
कई तो ऐसे भी थे जिनके साथ
आधे से ज्यादा जीवन गुजार दिए
अच्छा सिखाया उन्होंने
लेकिन माफ कीजिएगा
मैं उनकी सीख नहीं मान सकता
क्योंकि मैं इंसान बने रहना चाहता हूं
ईश्वर ने आखिर
कुछ सोच समझकर ही तो
इंसान बनाकर भेजा होगा
जब भी मन भटकता है
अपने आसपास टहल रही
चींटी को देख लेता हूं
और समझ लेता हूं
मसले तो सभी जाएंगे
फिर गुमान किस बात का।

अर्द्धेन्दु भूषण

matruadmin

Next Post

कविता- माँ

Sun Jul 7 , 2024
माँ से ही तो हैं हम, माँ पर क्या लिखना। जगत जननी, जग पालक, माँ पर क्या लिखना।। तवे पे पकती रोटी माँ, सबसे बड़ी मनौती माँ। सारे दुख दर्दों को हर ले, वो है बस इकलौती माँ।। वही तो चारों धाम है, माँ पर क्या लिखना। जगत जननी, जग […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

आपका जन्म 29 अप्रैल 1989 को सेंधवा, मध्यप्रदेश में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर हुआ। आपका पैतृक घर धार जिले की कुक्षी तहसील में है। आप कम्प्यूटर साइंस विषय से बैचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कम्प्यूटर साइंस) में स्नातक होने के साथ आपने एमबीए किया तथा एम.जे. एम सी की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। आपने अब तक 8 से अधिक पुस्तकों का लेखन किया है, जिसमें से 2 पुस्तकें पत्रकारिता के विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध हैं। मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मातृभाषा डॉट कॉम, साहित्यग्राम पत्रिका के संपादक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मध्य प्रदेश ही नहीं अपितु देशभर में हिन्दी भाषा के प्रचार, प्रसार और विस्तार के लिए निरंतर कार्यरत हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 21 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण उन्हें वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया। इसके अलावा आप सॉफ़्टवेयर कम्पनी सेन्स टेक्नोलॉजीस के सीईओ हैं और ख़बर हलचल न्यूज़ के संस्थापक व प्रधान संपादक हैं। हॉल ही में साहित्य अकादमी, मध्य प्रदेश शासन संस्कृति परिषद्, संस्कृति विभाग द्वारा डॉ. अर्पण जैन 'अविचल' को वर्ष 2020 के लिए फ़ेसबुक/ब्लॉग/नेट (पेज) हेतु अखिल भारतीय नारद मुनि पुरस्कार से अलंकृत किया गया है।