पुस्तक समीक्षा- खामोशियों की गूँज, अदिति सिंह भदौरिया

0 0
Read Time2 Minute, 52 Second

कागज़ पर कलम से खुद को सींचना यानी अदिति भादौरिया की कविताएं

-कमलेश भारतीय

अदिति भादौरिया फेसबुक पर मिलीं और पाठक मंच से भी जुड़ीं। एक पत्रिका की सहसंपादिका भी बनीं और लघुकथा में भी सक्रिय हैं। पहला पहला कविता संग्रह आया है- खामोशियों की गूंज।
आखिर इन खामोशियों की गूंज सुनी और यही लगा कि कवयित्री कह रही है कि कागज़ पर कलम से खुद को सींचती हैं अदिति यानी हर लेखक ।
कागज़ पर कलम से खुद को सींचती हूं मैं,
अश्कों के प्रवाह को सीने में भरकर देखा है,
क्योंकि खामोशी के शब्दों को मैंने
पलकों की स्याही से सोखा है।

अदिति की कविताओं में आम लड़की की चाहें , प्यार , गृहस्थी और समाज सब आते हैं । वे कहती हैं-
मैं पाना चाहूं वह उड़ान
जो आशाओं को थामेगी।

अदिति ने पति , परिवार और बच्चों पर अपने प्रेम की कवितायें भी इसमें शामिल की हैं । कुछ भी छिपाया नहीं । तभी तो कहती हैं :
हां छिपाना चाहूं तुझसे मैं जख्म अपने,
पर टूटा आइना कहे मुझे तेरा अक्स छिपाऊं कैसे ?

कोई भी लेखक समाज का ही अक्स दिखाता है, अपने आसपास का अक्स दिखाता है। कलम से अदिति कहती है-
न डरना , न घबराना तुम
शब्दों को बुनते जाना तुम ।

खामोशियों की गूंज में गज़लें भी हैं तो दो दो चार चार पंक्तियों की छोटी छोटी कविताएं भी और गीत भी, सपने पर लिखी कविता पहचान लिखी है और पहचान यह है कि :
आशा की किरणों को थामे
मैं राह अपनी चुनता हूँ,

छोटी छोटी कविताओं में से एक-

बनना चाहती हूं एक ऐसा आसमान, जहां मैं उड़ सकूं और सुन सकूं
वो धड़कनें जो मेरे दिल में भी धड़कती हैं ।

काश ! कोई समझ पाये
कि मौत सिर्फ चिता पर ही नही होती
बल्कि झूठी मुस्कुराहटें ओढ़ने से भी होती है ।

हंसने के लिए मुस्कुराहटें नहीं
बल्कि नकाब की जरूरत पड़ती है
आजकल,
लोग हैं चारों तरफ
फिर भी तन्हाई क्यों लगती है
क्यों भीड़ में खो जाती हूं मैं
हर पल बस अपनी ही तलाश में रहती क्यों हूं मैं ?

यह तलाश जारी रहनी चाहिए अदिति। इस पुस्तक की भूमिका लिखी है लालित्य ललित ने,
शुभकामनाएं । बधाई

कमलेश भारतीय, दिल्ली

matruadmin

Next Post

माँ रेवा के तट पर महेश्वर में सम्पन्न हुआ नर्मदा साहित्य मंथन

Sat Mar 12 , 2022
नर्मदा साहित्य मंथन का निष्कर्ष बहुत बड़ा होगा इंदौर। माँ अहिल्या की राजधानी ,आदि शंकराचार्य एवं मंडन मिश्र की शास्त्रार्थ भूमि ,माँ रेवा के तट पर बसी एतिहासिक और धार्मिक नगरी महेश्वर में साहित्य अकादमी मध्यप्रदेश एवं विश्व संवाद केंद्र मालवा ने संयुक्त रूप से एक कार्यक्रम की योजना की […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।