यातायात नियमों की जानकारी देगी शाॅर्ट फिल्म : निठल्ले

0 0
Read Time2 Minute, 16 Second

आगरा ।

विश्वशांति मानव सेवा समिति रजि0 द्वारा संचालित वी एस एम एस फिल्म्स एंड टेलिविजन के बैनर तले सामाजिक शार्ट फ़िल्म निठल्ले का फिल्मांकन किया गया। जिसका प्रसारण ब्रज टीवी चैनल पर प्रसारित किया जाएगा। इस फिल्म के माध्यम से यातायात संबंधी जानकारी भरा संदेश दिया गया । वहीं मनोरंजन की दृष्टि से दर्शकों को खूब हंसायेगी भी, क्योंकि फिल्म में काॅमेडी का तड़का भी लगा है ।

आपको बता दें कि संस्था द्वारा पूर्व में पानी की टोटी, बेटी हो तो ऐसी, दहेज एक दानव, शौच के लिए शौचालय, राहगीर आदि सहित दर्जनों समाज सुधारक शॉर्ट फिल्में एवं टेलीफिल्म्स बनाई जा चुकी हैं, जो कि मनोरंजन के साथ-साथ समाज सुधार एवं जागरूकता का प्रयास कर रही हैं । शार्ट फ़िल्म निठल्ले के निर्माता एवं पटकथा लेखक जयकिशन सिंह एकलव्य के निर्देशन में बनी इस सामाजिक फिल्म ‘निठल्ले’ में मुख्य भूमिका में नरेन्द्र शर्मा बुलबुल, भूपेंद्र निषाद हैं, सहयोगी कलाकार
मुकेश कुमार ऋषि वर्मा, एम एस एकलव्य, विष्णु प्रताप वर्मा, पूनम निषाद, भूरीसिंह, दुष्यंत कुमार, राम किशन, हेतसिंह, निर्मल, सत्यप्रकाश आदि। कैमरामैन राजकुमार व मुकेश कुमार ऋषि वर्मा हैं। आगरा परिक्षेत्र(ब्रज) में फिल्माई गई इस फ़िल्म के माध्यम से यातायात नियमों को ध्यान में रखते हुए निठल्लेपन पर वार किया गया है। शूटिंग लोकेशन पर शासन-प्रशासन का अच्छा सहयोग रहा।

  • मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

matruadmin

Next Post

आषाढ़ की बूंदे….

Mon Jul 26 , 2021
आषाढ़ में बारिश की कुछ बूंदे पड़ते ही निर्जन सी भूमि पर मुरझाई सी हरीतिमा अपने हरियाले सौंदर्य से आलहादित होकर परिपूर्णता को प्राप्त करती है भूल जाती है गर्मी की प्रचंडता लू के झकझोरते थपेड़ों को उस नीरवता को अपनी चिर-परिचित स्मिता के साथ आह्वान करती है नये सावन […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।