महामारी निवारण हेतु मिलने वाली राशि का होना चाहिए सोशल आडिट

0 0
Read Time6 Minute, 4 Second

कोरोना काल में जहां आम आवाम की मानवीय संवेदनायें चरम सीमा पर रहीं, वहीं अधिकांश स्थानों पर प्रशासनिक क्रियाकलापों पर प्रश्नचिंह अंकित होते रहे। सूचना के अधिकार से बाहर होने की बात कहकर जबाबदेही पर मुकरना, उत्तरदायी अधिकारिकों के लिए आम बात हो गई है। सरकारों ने जो सुविधायें और धन आवंटित कराया, उसका विभागीय लेखाजोखा अवश्य ही पत्रावली माफियों ने तैयार कर लिया होगा परन्तु समाज के दानवीरों व्दारा भी एक बडी राशि प्रशासन को महामारी से राहत हेतु दी जाती रही है। उपकरणों से लेकर दवाइयों तक, राशन से लेकर भोजन तक, सुविधाओं से लेकर सहयोग तक में लगभग हर सक्षम नागरिक ने योगदान किया है। इस मध्य जरूरतमंदों से लेकर सेवामंदों तक को अनेक स्थानों पर न्यायाधीश के अधिकारों का अतिक्रमण करने वाले अधिकारियों का कोप भाजक बनना पडा। कहीं दवा लेने जाने वाले पिटे तो कहीं मरीज को लेने जाने वाले निजी वाहन को थाने मेें खडा करवा दिया गया। लाकडाउन काल में सेवा करने वालों को कोरोना के आक्रमण से कहीं अधिक प्रशासनिक तानाशाही का खतरा रहता था। इस मध्य खाद्यान्न आवंटन से लेकर सहायता वितरण तक, चिकित्सीय सुविधाओं के विस्तार हेतु मिलने वाले उपकरणों से लेकर राशि तक एवं सरकारी योजनाओं के अनुपालन से लेकर प्रभावित लोगों को मिलने वाली सहयोग राशि तक में भारी अनियमिततायें उजागर हुईं है। मगर उत्तरदायी हेतु दण्ड की कौन कहे उन पर लगे आरोपों के प्रमाणित सबूतों तक को निरंतर अनदेखा किया जाता रहा। यदि मामले ने ज्यादा तूल पकडा तो फिर पारदर्शितता दिखाने हेतु किसी संविदाकर्मी की बलि चढा दी गई। वास्तविकता यह है कि तंत्र के अंदर ही दो तरह की मानसिकता पनप चुकी है। अधिकांश स्थाई सेवारत अधिकारी और कर्मचारियों का एक सशक्त गुट पूरी तरह से चिंता मुक्त है। अनियमिततायें बरतने पर भी उनकी न तो नौकरी प्रभावित होती है और न ही उन्हें दण्ड दिया जाता है। यही कारण है कि ऐसे गुट नेतागिरी, संगठन बनाने और सरकारों पर दबाव बनाने का ही काम करते हैं। मोटी तनख्वाह के ऐवज में मिली जिम्मेवारी भी बिना खास कारण के पूरी नहीं होती। इसके अलावा दूसरे हैं वे निरीह लोग, जो अपने जीवकोपार्जन हेतु लम्बे समय तक नौकरी की तलाश में भटकते रहे और बाद में उन्हें संविदा पर नौकरी मिली। वेतन भी कम, काम भी अधिक और असुरक्षा की मानसिक त्रासदी भी। समान काम करने पर समान वेतन की कौन कहे, स्थाई अधिकारियों और कर्मचारियों का गुट तो अपना काम भी संविदाकर्मियों पर ही थोपते देखे गये हैं। ज्यादा हुआ तो वरिष्ठों के माध्यम से संविदाकर्मी की संविदा समाप्त करवाने की धमकी का प्रयोग करवाना तो उनका बायें हाथ का काम है। संविदाकर्मी पुन: बेरोजगार होने का कल्पना करके ही सहम जाता है। यही वो डर है जिसका फायदा उठाकर स्थाईकर्मी निरंतर संविदाकर्मियों का शोषण करते चले आ रहे हैं। विसम परिस्थितियां आने पर यह गुट अपने ऊपर लगे वाले सारे आरोप संविदाकर्मियों पर गढ देते हैं। स्थाई कर्मचारियों से लेकर प्रशासनिक अधिकारियों तक ने अपने हितों की रक्षा हेतु संगठन बना रखे हैं। उनका झंडा ऊंचा होते ही सरकारें हिलने लगतीं हैं। हडताल, प्रदर्शन और घेराव जैसे हथकण्डे अपनाने में भी यह गुट कोताही नहीं बरतता। इसी तरह से कोरोना काल में प्रशासनिक अमला औरर समाजसेवियों का समूह दो अलग-अगल कार्यकारी इकाइयों रहीं। एक को निरंतर वेतन मिलता रहा भले ही उन्होंने काम किया हो या किया हो और दूसरा समूह स्वयं के खर्च पर लोगों के आंसू पौंछने का काम करता रहा। समाज सेवियों के गिलहरी के प्रयासों को आज भी समाज रेखांकित कर रहा है। दानवीरों के पास यदि कुछ आया तो स्वयं का संतोष लौटा, उसे लगा कि उसके दान को निश्चित ही जरूरतमंदों तक पहुंचाया गया होगा। मगर पारदर्शिता जानने का कोई जरिया न होने से वह सच्चाई जान ही नहीं सका। ऐसे में महामारी निवारण हेतु सरकारों व्दारा मिलने वाली सहायताराशि और दानवीरों के सहयोगराशि का सोशल नितांत आवश्यक हो गया है ताकि लोगों को वास्तविकता का पता चल सके। यह देश के सम्मानित नागरिकों का अधिकार भी है। इस सप्ताह बस इतना ही। अगले सप्ताह एक नई आहट के साथ फिर मुलाकात होगी।

डा. रवीन्द्र अरजरिया

matruadmin

Next Post

इच्छाओं का बोझ

Mon Jun 14 , 2021
इच्छाओं का बोझ था सर से उतार दिया मैंने एक ही झटके में जीवन को आकार दिया अब इस आकार में सुख शांति बसती है मुरझाई सी हंसी थी अब वो खुलकर हंसती है चाहनाओं का बोझ था सर से उतार दिया मैंने एक ही झटके में जीवन को आकार […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।