योगी आदित्यनाथ “एक साहसिक नेतृत्व”

0 0
Read Time2 Minute, 57 Second

2022 उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव

राजनीतिक विश्लेषक अक्सर यह कहते आये है कि देश की सत्ता उत्तरप्रदेश से होकर जाती है हो भी क्यों ना। 80 लोकसभा सांसद व 31 राज्यसभा सांसद देने वाला उत्तरप्रदेश देश का सबसे बड़ा राज्य है। जिसकी बागडोर वर्तमान में एक प्रखर नेतृत्व करने वाले सन्यासी के हाथ मे है।

परन्तु इससे इतनी राजनीतिक उथल पुथल क्यों ?

इसका विश्लेषण करेंगे तो जानेंगे कि पिछले 4 साल में उत्तरप्रदेश में अपराध की कमर तोड़ने का काम उत्तरप्रदेश पुलिस ने बखूबी किया है। समझिए पुलिस वही है, बस प्रदेश का नेतृत्व बदला है।
एक समय तब था जब किसी आजम खां की भैंस घूम हो जाने पर कई थानों का बाप भैंसों को ढूंढने में लगा दिया जाता था, आज वे आजम खां छुपाते फिर रहे है।

राजनीति के विरोधियों में डर इस बात का अधिक है कि उत्तरप्रदेश की जनता यदि योगी को पूर्ण बहुमत से बैठा देती है जो कि निश्चित है, क्योंकि उत्तरप्रदेश के इतिहास में इतना अच्छा सुशासन जनता ने कभी देखा ही नही, हाँ कई सुधार अब भी आवश्यक है, वे होंगे।
बस यही कारण है कि उत्तरप्रदेश में सभी राजनीतिक दल योगी को हराने के लिए उसी तरह एकजुट होंगे, जैसे मोदी को हटाने के लिए हुए थे।

क्योंकि वे जानते है योगी का उत्तरप्रदेश जितना मतलब देश की सत्ता में उनकी दावेदारी को बढ़ाना है, पूरे देश में योगी अपने सुशासन और लोकप्रियता में मुख्यमंत्रीयो में सबसे अव्वल है, उन्होंने 4 सालों में ही कई दुर्लभ कार्य सिद्ध किए है, लोकडाउन में ही उत्तरप्रदेश को 66000 करोड़ का निवेश मिले तो इसे योगी आदित्यनाथ का मैनेजमेंट ही कहेंगे, अपराधियों में खोफ और जनता में विश्वास के कारण निवेशकों का भी ध्यान उत्तरप्रदेश की ओर बढ़ा है। 2022 निर्णायक सिद्ध होगा। फिर से विपक्षी दल मुस्लिम कार्ड, जातिवाद आदि षड्यंत्र को हवा देंगे। परन्तु जनता को इसके प्रति जागरूक रहकर, योगी आदित्यनाथ के समर्थन में खड़े रहना चाहिए। क्योंकि उनसे अभी ओर अधिक अपेक्षा है माँ भारती को।

मंगलेश सोनी
मनावर (मध्यप्रदेश)

matruadmin

Next Post

आखिर सूरज हार गया

Thu Jun 10 , 2021
‘‘भैया………आज……….कुल्फी बच जायेगीं तो मुझे दोगे क्या…….बहुत भूख लगी है…………ये देखो………..देखो न भैया’’ सूरज ने आशा भरी निगाहों से अपने बड़े भाई को देखा था । बड़ा भाई रमेश मौन था । वह एक हाथ में कुल्फी का डिब्बा पकड़े थे और एक हाथ से अपने भाई की उंगली पकड़े […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।