कवि ‘सावन’ में असीम संभावनाएँ

1 0
Read Time2 Minute, 59 Second

गालिब ने कहा था, “खेल बच्चों का हुआ, दीन ए दीना न हुआ, वह आंख क्‍या जो कतरे में समन्दर को न देख ले। ” कतरे में समन्दर को देखने वाली आँख कविता की आँख होती है। ‘सावन’ के पास वह आँख है, जिससे उन्होंने लहरों, जलचरों और तूफानों को नहीं देखा है बल्कि देखा है उसकी असीम गहराइयों को, उसके अनन्त विस्तार को, उसकी गति को, उसकी त्वरा को, उसके संगीत को, उसके रंग को, उसके राग को और विराग को भी।

‘हाय री! कुमुदिनी’ कविता ने स्त्री विमर्श को सजीव किया है। कवि की कल्पना मौलिक है। ‘होली में रंग बरसाना है’ कविता में मर्यादित श्रृंगार है। ‘प्यार होना चाहिए’ में मुझे लगता है कि प्यार में केवल प्यार होना चाहिए खुल्लम खुल्ला। प्यार में चरित्र और संस्कार का मिश्रण न हो तो बेहतर। ‘जिन्दगी इक सपना’ अच्छी कविता है। ‘जिन्दगी इक नदी ‘ बहुत सुन्दर कविता है। ‘समय की रेत पर फिसल गई ज़िन्दगी ‘, ‘कुहू कूहू बोले रे कोयलिया ‘, “किराये का जीवन’, ‘खुशियों के लघु दीप’, ‘पहाड़’, ‘आओ पढ़ाई कर लो बेटी’ और ‘खोयी हुई दुनिया’ सकारात्मक कविताएँ हैं। कवि सुनील चौरसिया ‘सावन’ हिन्दी कविता के यशस्वी हस्ताक्षर हैं।

‘सावन’ की कविताओं में स्मृति बोध जैसी तरलता और सुबोधता है। यह स्मरणधर्मी रचना शिल्प कवि की विशेष लब्धि है।

‘सावन’ की कविताओं में अकुंठमन का नैसर्गिक उद्गार है। जीवन, पर्यावरण के प्रति सकारात्मक सोच और संतुलित दृष्टि है। सामाजिक विकृतियों पर प्रहार करते समय भी मर्यादा और शील की रक्षा हुई है।

इन कविताओं में कवि का उदार विजन लक्षित होता है। जिन्दगी के अक्षांश और देशान्तर से निर्मित अक्स पर समाज का एक रेखाचित्र अंकित किया गया है। वर्तमान का मूल्यांकन है, अतीत का पुनर्वालोकन है तथा भविष्य का संकेत भी। अमेजॉन पर भी उपलब्ध यह महत्वपूर्ण काव्य संग्रह पठनीय है।

‘सावन’ में असीम संभावनाएँ हैं। लेखनी अनवरत चलती रहे। रचते रहें। हँसते रहें।

देवीशरण त्रिपाठी
वरिष्ठ कवि एवं शिक्षाविद्‌
कसया, कुशीनगर, उत्तर प्रदेश

matruadmin

Next Post

देश के किसान व आम जन

Thu Apr 15 , 2021
देश भर के किसान एक साथ आगे आ रहे हैं। पहली बार, मध्यम वर्ग उनका समर्थन कर रहा है। डॉक्टर, वकील, आम लोग उनकी मदद कर रहे हैं। यह आशा की जानी चाहिए कि आज स्वर की आवाज़ कुछ परिणाम देगी। राजधानी दिल्ली में एक बार फिर किसानों का जमावड़ा […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।