पलभर की दुल्हन

0 0
Read Time15 Minute, 57 Second

छुटकी को दुल्हन की तरह सजाया जा रहा था । उसे उधार खरीदकर लाई गई सस्ती लाल साड़ी पहना दी गई थी, जो लोग, मिहिलाल के लिए कफन लेकर आये थे वे ही साथ में लाल साड़ी भी ले आये थे और लाल चूड़ियां भीं । हाथों में चूड़ियां और माथे पर बड़ी बिन्दी लगा दी गई थी । छुटकी की आज शादी होने वाली थी एक लाश के साथ । छुटकी समझ नहीं पा रही थी कि वह हॅसे या रोये । उसे दोनों काम करने थे । पहले उसे खुष होना था कि उसकी लंबी प्रतीक्षा के बाद उसकी शादी हो रही है वो भी उससे जिससे वह प्रेम करती है फिर उसे रोना भी था, क्योंकि वह जिससे प्रेम करती है उसका निर्जीव शरीर उसकी आंखों के सामने पड़ा था ।
एक छोटी सी झोपड़ी के अंदर छुटकी को दुल्हन बनाने का कार्य चल रहा था । झोपड़ी के बाहर एक लाष पड़ी थी जिसके अंतिम संस्कार की तैयारियां की जा रही थीं । पहले शादी होगी फिर अंतिम संस्कार । गांव की औरतों ने जोड़-तंगोड़ कर उसे दुल्हन बना दिया था । छुटकी लाष से ज्यादा निःश्चेत नजर आ रही थी । उसकी आंखों के सामने अपने जीवन के पल-पल चित्र की भांति घूम रहे थे ।
छुटकी एक आदिवासीे गांव की अल्हड़ युवती । मां बाप की प्यारी संतान । दिन भर जंगल में हिरनी जैसी कुलांचे भरना जंगल से उसे प्यार था वह उसके एक-एक रास्ते से वाकिफ थी । रात में मां-बाप के सीने से लग कर सो जाना । उसकी दिनचर्या थी । इस दिनचर्या में बदलाव तब आया जब उसकी दोस्ती मिहि से हो गई । मिहि भी उसके जैसे सामान्य परिवार का इकलौता पुत्र था । बलिष्ठ शरीर और गोरा रंग, छुटकी उस पर लट्टू हो गई । भगोरिया मेला में जब उसे मिहि ने पान खिलाया तो उसका तन-मन लालिमा से रंगा गया था । इस पान खिलाने का मतलब वह अच्छी तरह से जानती थी । अब उसकी दुनिया बदल चुकी थी । धने जंगल के किसी घने पेड़ की छांव में दोनों दिन भर भविष्य की कल्पनाओं में डूबे रहते । यकायक मिहि के परिवार पर गाज गिरी और उसके मां-बाप दोनों असमय कालकवलित हो गये । मिहि दुःख में पागल हुआ जा रहा था । छुटकी उसको ढाढ़स तो बंधाती पर यह जानती थी कि जिन परिस्थितयां में मिहि रह रहा है, उसमें उसका उसके साथ रहना जरूरी है पर शादी हुए बिना या पचायत की इजाजत के बिना यह संभव नहीं था ।
पंचायत ने साफ कह दिया था कि जब तक सारे समाज को भोज नहीं दिया जाता तब तक वे शादी-षुदा नहीं माने जा सकते । पंचायत की यह घोषणा मिहिलाल के लिये किसी वज्रपात से कम नहीं थी । आज उसकी उतनी माली हालत थी भी नहीं कि वह सारे सामाज को भोज दे सके । उसने समाज के लोगों से बहुत अनुनय-विनय किया पर समाज के लोग मानने तैयार ही नहीं हुए, इतना अवष्य हुआ कि पंचायत ने उन्हें बगैर शादी किये साथ-साथ रहने की इजाजत दे दी इस चेतावनी के साथ कि वो जल्दी ही पंचायत को भोज देगा ।
छुटकी और मिहिलाल साथ-साथ रहने लगे थे । पर उनके आर्थिक हालात नहीं सुधर पा रहे थे । दोनों दिन भर की कड़ी मेहनत करते पर पेट भूखा और तन कम कपड़ों का बना रहता छुटकी ने भोज के लिए कुछ पैसे जोड़े अवष्य थे पर जैसे ही पहली संतान हुई उसमें वे पैसे खर्च हो गए । घर की माली हालत ऐसी नहीं थी कि छुटकी जचकी के बाद आराम कर पाती । दो-तीन दिन में ही उसने फिर काम पर जाना शुरू कर दिया । मिहिलाल उसे रोकता भी पर वह मानती कैसे, वह जानती थी कि पेट में दो दानें तब ही आयेगें जब वह भी मजदूरी करने जाएगी । पहली संतान हो जाने के बाद पंचायत ने उन्हें चेताया था ‘‘ जल्दी से भोज दे दो वरना जाति से बाहर कर दिये जाओगे’’ । दोनो महिनों तक चिंतित बने भी रहे पर उनकी चिंता से कोई हल नहीं निकल पाया । पहली संतान के बाद उनकी आर्थिक स्थिति और बिगड़ती जा रही थी। कई बार तो उन्हें एक टाइम खा कर सो जाना पड़ता था । छुटकी जंगल से लकड़ी बीन कर लाती और जंगल वाले साहब उसे छुड़ा लेते वह रोती रहती पर किसी को उन पर दया नहीं आती । उस दिन छुटकी और मिहिलाल को भूखा ही सोना पड़ता । इस बीच छुटकी ने एक और संतान को जन्म दे दिया था । अबकी पंचायत ने उन्हें साफ चेता दिया था कि यदि उन्होने समाज को भोज नहीं दिया तो तो वे जाति से बाहर कर ही देगें ।
छुटकी और मिहिलाल के सामने भरपेट भोजन की समस्या तो थी ही पंचायत को भोजन कराने की चिंता भी उसे खाये जा रही थी । वह जानती थी जब तक पंचायत को भोज नहीं कराया जाएगा तब तक वे पति-पत्नी नहीं माने जाएंगे ऐसे में उनकी संतानों को क्या नाम दिया जाएगा ।
जंगल में काम मिलना मुश्किल होता जा रहा था । छुटकी और मिहिलाल के उपर दो-दो संतानों की जिम्मेदारी आ पड़ी थी फिर भी वे पंचायत की धमकी को भुला नहीं पा रहे थे । हताषा और निराषा के दौर में मिहिलाल ने जंगल में एक कोयला खदान में काम करना शुरू कर दिया था । छुटकी कोयला खदानो में रोज होने वाली घटनाओं को जानती थी इसलिए वह नहीं चाहती थी कि मिहिलाल खदान में काम करे । जगंल में काम मिल नहीं रहा था जंगल के अफसर सारा काम मषीनों से करा लेते थे । काम नहीं मिलेगा तो बच्चों का पेट कैसे भरेगा । उनका पेट तो फिर भी जैसे-तैसे भरा जाये पर पंचायत को भोज तो देना ही था । अब जब उसके सामने कोई विकल्प नहीं रहा तब उसे यह स्वीकार करना ही पड़ा । जब तक मिहिलाल खदान से लौट कर नहीं आ जाता तब तक वह बैचेन बनी रहती । खदान का काम अधिक श्रम वाला था । उसे दिन भर कात करते रहना पड़ता था । लगातार की भुखमरी और पारिवारिक हालातों ने उसकी षारीरिक क्षमताओं को कम कर दिया था । वह थकाहारा लौटता और रात भर दर्द और बैचेनी के चलते करवटें बदलता रहता । छुटकी इस हालत को देख रो पड़ती । उसने कई बार उसे खदान का काम छोड़ देने को बोला था पर वह मानने को तैयार नहीं था । मिहिलाल के सामने पंचायत को भोज देने का मुखिया का फरमान सामने आ जाता और वह अपनी सारी पीड़ा भूलकर काम पर चला जाता ।
मिहिलाल का शरीर कब तक ज्यादती सहता । एक दिन मिहिलाल खदान में ही चक्कर खाकर गिर गया । खदान के लोग उसे घर में पटक कर चले गए । छुटकी को काटो तो खून नहंीं । उसकी समझ में नहीं आ रहा था कि वह क्या करे । गांव में उसकी मदद करने वाला सिवाय उसके बाप के और कोई नहीं था । अपने दो छोटे-छोटे बच्चों के साथ वह कहां जाए, वह पूरी तरह टूट चुकी थी । उसके पिता ने मिहिलाल को सरकारी अस्पताल में भर्ती करा दिया था । पर उसका इलाज दवा के अ्रभाव में नहीं हो पा रहा था । असहाय छुटकी अस्पताल के सामने बैठी रो रही थी । उसे रोते हुए देख वहां से आने जाने वाले उसे पैसे दे रहे थे । छुटकी ने हिम्मत कर उन पैसों से मिहिलाल के लिए दवायें खरीदीं । वह जब तक वहां पहुंचती मिहिलाल के प्रान पखेरू उड़ चुके थे ।
अस्पताल के कर्मचारियों ने पूरी बेर्ददी के साथ उसकी लाश को अस्पातल के सामने रख दिया था । उस लाश से लिपट कर छुटकी रो रही थी । उसे रोता देख उसके दोनों बच्चे उससे लिपट कर रो रहे थे ‘‘ मां……म….त……रोओ………मां ।’’ नन्हीं आवाज उसकी रूलाई को बंद नहीं करा पा रही थी । उसका पिता अपने आपको जैसे तैसे सम्हाले हुए लाष को गांव ले जाने की जुगत भिड़ा रहा था । उनकी बदकिस्मती यह थी कि उनके पास पैसे नहीं थे, इस कारण न तो सरकारी एम्बुलेंस उसको ले जाने को तैयार थी और न ही कोई अन्य गाड़ी । छुटकी और उसके बच्चे रात भर मिहिलाल की लाश के गले लगकर रोते रहे । दिन निकलने के पहले उसके पिता ने लाश को अपने कंधे पर डाला और छुटकी ने अपने दोनों बच्चों की उंगलियां पकड़ी और चल दिये अपने गांव की ओर । गांव वैसे भी दूर था और उसके पिता के कंधे बुढ़ापे के कारण कमजोर । वे ज्यादा दूर नहीं चल पाते वे रूक जाते सुस्ताते और फिर चल पड़ते । दोनों को गांव तक पहुंचने में दोपहर हो गई थी । भूखे बच्चे, असहाय छुटकी और बूढ़े बाप, लंबा सफर आंखों से न थमने वाले आंसू । मिहिलाल तो लाश बन चुका था उसका निर्जीव शरीर हर कदम के साथ डोलता चल रहा था । रास्ते भर उन्हें ऐसा कोई नहीं मिला जो उनकी मदद करता ।
घर के सामने लाष को रख दिया गया था । गांव में मिहिलाल की मौत की खबर जैसे-जैसे फैलती जा रही थी वैसे-वैसे गांव के लोगों का आना प्रारंभ हो चुका था । पंचायत के लोग जमा हो चुके थे । सभी के सामने एक ही प्रश्न था कि उनके भोज का क्या होगा । जब तक भोज नहीं तब तक छुटकी, मिहिलाल की पत्नी नहीं मानी जा सकती और न ही वे बच्चे मिहिलाल की संतान माने जा सकते । फिर लाष को आग कौन लगायेगा । छुटकी का बाप हाथ जोड़े पंचायत के सामने खड़ा था । पंचायत को फिलहाल इस बात की
चिंता नहीं थी की मिहिलाल की मौत हो गई है और न ही इस बात की चिंता थी कि उसके बच्चे भूखे प्यासे हैं ।
‘‘ मेरी बेटी के पास क्रियाकर्म करने पैसे नहीं हैं, वो आप सब को भोज कैसे करायेगी आप हम पर रहम करें । ’’
छुटकी का बाप गिड़गिड़ा रहा था । पंचायत के लोग बेषर्म हो चुके थे । ‘‘ नहीं उसे भोज कराना ही पड़ेगा, पंचायत को भोज कराये बगैर हम उसे मिहिलाल की पत्नी नहीं मान सकते ।’’
पंचायत के मुखिया ने साफ कह दिया था ।
‘‘ पर…..उसके पास पैसे नहीं ….हैं …….तो हमें कुछ तो मोहलत …..देनी चाहिए’’ पंचायत के सदस्य ने डरते हुए यह कहा । पंचायत खामोष हो गई । वे अपने सदस्य की बात को नहीं काट पा रहे थे । आपस में खुसर-पुसर प्रारंभ हो गई । सभी एक मत नहीं थे । कुछ लोगों का साफ कहना था कि पंचायत ने इन्हें पर्याप्त अवसर दे दिया । इसी के कारण दो-दो बच्चे पैदा हो गये अब फिर समय दे भी दिया गया तो क्या गारंटी है कि छुटकी भोज करा ही देगी । फिर मिहिलाल का श्राद्ध भी तो किया जाना है वह श्राद्ध करायेगी या भोज करायेगी । श्राद्ध का नाम आते ही पंचायत में फिर खुसर-पुसर होनी शुरू हो गई । अंत में यह तय किया गया कि छुटकी को श्राद्ध करने तक की मोहलत और दी जाए वह श्राद्ध कराये और उसी को भोज मान लिया जाए । सभी ने इसका समर्थन कर दिया । अब समस्या छुटकी के विधि विधान से ब्याह की थी । मिहिलाल तो जीवित नहीं था फिर उसकी मांग कैसे भरी जाए । जब तक मांग नहीं भरी जाएगी तब तक उसे ब्याहता कैसे माना जाएगा । पंचायत ने फैसला किया कि लाष से छुटकी की मांग भर दी जाए । मिहिलाल के अंतिम संस्कार के पहले छुटकी को दुल्हन बनाया जाए, उसकी मांग भरी जाए फिर उसकी मांग पौछ दी जाए और उसे मिहिलाल की विधवा बना दिया जाए । पंचायत के फैसले को सभी ने मौन रह कर सुना ।
छुटकी पंचायत के इसी फैसले के चलते महिलाल की लाश घर के सामने पड़ी होने के बाबजूद दुल्हन बन रही थी । उसे अपने बच्चों को बाप का नाम दिलाना था । छुटकी को गांव की औरतों ने मिलकर दुल्हन बना दिया था । दुल्हन बनी छुटकी को लगभग खींचकर बाहर लाया गया । दो लोगों ने मिहिलाल के निर्जीव पड़े शरीर से बांये हाथ को पकड़ा और सिंदूर की डिब्बी में उसकी उंगलियां डुबाकर छुटकी की मांग को भर दिया गया । लोगों ने तालियां बजाईं । छुटकी आज मिहिलाल की पत्नी बन गई थी । उसकी मांग को सजे पल भर भी नहीं हुआ था कि गांव की औरतों ने छुटकी की मांग से सिंदूर पौछ दिया और उसकी चूड़ियों को तोड़ दिया गया । छुटकी की आंखों का बांध टूट चुका था । छुटकी रो रही थी । रोते-रोते उसकी हिचकी बंध जाती थी पर कोई नहीं था जो उसको सान्तवना दे सके ।
मिहिलाल का क्रियाकर्म हो चुका था, अब उसकी श्राद्ध होना था । छुटकी अपने भूखे बच्चों को अपने जिगर से चिपका कर भीख मांग रही थी । उसे श्राद्ध करना था उसे पंचायत को भोज कराना था, ताकि उसके बच्चों को अपने पिता नाम मिल जाये ।

matruadmin

Next Post

खामोशी

Sun Jan 3 , 2021
चुभती है मेरे कानों में खामोशी तेरी हरदम, कुछ तो मरहम लगा दो अपनी बातों से हमदम आहत है दिल मेरा तेरी इस खामोशी के जुल्म से हर रोज बात कर लिया करो नहीं तो बताओ—– कौन तुम्हें ज्यादा बेहतर समझेगा मुझसे अल्फ़ाज़ महकाओ कुछ इस तरह कि, जैसे गुल […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।