ज़िन्दगी क्यों बुझी सी रहती है

1 0
Read Time39 Second

ज़िन्दगी क्यों बुझी सी रहती है
आँख में कुछ नमी सी रहती है

गुमशुदा सी कहीँ ख़्यालों में
ज़िन्दगी अजनबी सी रहती है

बेवफ़ा ज़िन्दगी में क्या आई
ज़िन्दगी में कमी सी रहती है।

आह दिल की मेरी भी सुन लेती
देख के देखती सी रहती है

कुछ खुला सा है मेरे भी दिल में
रौशनी बाँटती सी रहती है

ज़िन्दगी के सवाल हल करते
ज़िन्दगी यक-फनी सी रहती है

सोच का फ़र्क होता है आकिब’
दिल में तो तिश्नगी सी रहती है

#आकिब जावेद

matruadmin

Next Post

विहिप ने की वेब जगत के लिए राष्ट्रीय नियामक बोर्ड बनाने की मांग

Thu May 28 , 2020
केन्द्रीय सूचना व प्रसारण मंत्री को भेजा पत्र भवदीय विनोद बंसल राष्ट्रीय प्रवक्ता, विश्व हिंदू परिषद Post Views: 298

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

आपका जन्म 29 अप्रैल 1989 को सेंधवा, मध्यप्रदेश में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर हुआ। आपका पैतृक घर धार जिले की कुक्षी तहसील में है। आप कम्प्यूटर साइंस विषय से बैचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कम्प्यूटर साइंस) में स्नातक होने के साथ आपने एमबीए किया तथा एम.जे. एम सी की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। आपने अब तक 8 से अधिक पुस्तकों का लेखन किया है, जिसमें से 2 पुस्तकें पत्रकारिता के विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध हैं। मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मातृभाषा डॉट कॉम, साहित्यग्राम पत्रिका के संपादक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मध्य प्रदेश ही नहीं अपितु देशभर में हिन्दी भाषा के प्रचार, प्रसार और विस्तार के लिए निरंतर कार्यरत हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 21 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण उन्हें वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया। इसके अलावा आप सॉफ़्टवेयर कम्पनी सेन्स टेक्नोलॉजीस के सीईओ हैं और ख़बर हलचल न्यूज़ के संस्थापक व प्रधान संपादक हैं। हॉल ही में साहित्य अकादमी, मध्य प्रदेश शासन संस्कृति परिषद्, संस्कृति विभाग द्वारा डॉ. अर्पण जैन 'अविचल' को वर्ष 2020 के लिए फ़ेसबुक/ब्लॉग/नेट (पेज) हेतु अखिल भारतीय नारद मुनि पुरस्कार से अलंकृत किया गया है।