चल-चल रे नौजवान..

1
0 0
Read Time2 Minute, 52 Second

asha jakad

मातृभूमि पर शीश चढ़ाने अपना सीना तान,
चल-चल रे नौजवान..
माँ का आँचल दुश्मनों ने रक्त रंजित कर दिया,
अनगिनत गोलियों से लहूलुहान कर दिया..
माँ की दुर्दशा देख रो रहा आसमान,
चल-चल रे नौजवान…।

दुश्मनों को गोलियों से भूनकर रख दो,
हाथ जो उठे तो ऊपर,खण्ड-खण्ड कर दो।
हौंसले बुलन्द रखो,चाहे आए तूफान,,
चल-चल रे नौजवान….।

वीरता की नाव पर हो जाओ वीर सवार,
हाथ में थाम लो तुम साहस की पतवार..
कश्मीर की चोटियों में रहे गुंजित बलिदान,
चल-चल रे नौजवान…।

हल्दी घाटी की नदियां शत्रु को दिखला दो,
शिवाजी सम छक्के छुड़ा आकाश को हिला दो..
दुहरा दो इतिहास जन-जन में अभिमान,
चल-चल रे नौजवान….।

आ जाओ कृष्ण,अब चक्र को हाथों में सजा लो,
दानवों के संहार का बीड़ा तुम उठा लो..
दुष्टों का नाश कर बनो धनुर्धर महान..
चल-चल रे नौजवान…।

वीर भोग्या वसुन्धरा अमर पुत्र ही बनना,
दुश्मन के खून से अपना नाम लिखना..
शत्रु के हौंसले पस्त करने ले लो तीर- कमान
चल-चल रे नौजवान…।

  #आशा जाकड़

परिचय: लेखिका आशा जाकड़ शिकोहाबाद से ताल्लुक रखती हैं और कार्यक्षेत्र इन्दौर(म.प्र.)है। बतौर लेखिका आपको प्रादेशिक सरल अलंकरण,माहेश्वरी सम्मान रंजन कलश सहित साहित्य मणि श्री(बालाघाट),कृति कुसुम सम्मान इन्दौर,शब्द प्रवाह साहित्य सम्मान(उज्जैन),श्री महाराज कृष्ण जैन स्मृति सम्मान(शिलांग) और साहित्य रत्न सम्मान(जबलपुर)आदि मिले हैं। जन्म१९५१ में शिकोहाबाद (यू.पी.)में हुआ और एमए (समाजशास्त्र,हिन्दी)सहित बीएड भी किया है। 28 वर्ष तक इन्दौर में आपने अध्यापन कराया है। सेवानिवृत्ति के बाद काव्य संग्रह ‘राष्ट्र को नमन’, कहानी संग्रह ‘अनुत्तरित प्रश्न’ और  ‘नए पंखों की उड़ान’ आपके नाम है।
बचपन से ही गीत,कविता,नाटक, कहानियां,गजल आदि के लेखन में आप सक्रिय हैं तो,काव्य गोष्ठियों और आकाशवाणी से भी पाठ करती हैं। कई साहित्यिक संस्थाओं से जुड़ी हैं।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

One thought on “चल-चल रे नौजवान..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

संवेदना पर हावी आधुनिकता...

Fri Mar 24 , 2017
सुधा की नजरें बार-बार दरवाजे पर ठहर रहीं थी। उसे लग रहा था कि, बचपन की तरह आज भी उसे ‘सरप्राइज‘ देने के लिए पीयूष आ जाएगा,पर आज उसे दरवाजे की हर आहट से निराशा ही मिल रही थी। रिश्तेदारों की मूक निगाहें भी ढेरों सवाल कर रही थी,वहीं सुधा […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।