निशा..

2
0 0
Read Time4 Minute, 2 Second

neha

आज भी रोज की तरह सुप्रिया काम कर रही है। बाहर बारिश हो रही है और अब उसके पढ़े-लिखे पति यानी श्री वर्मा की पीएचडी के कारण उम्र निकल जाने से एक निम्न घर की लड़की सुप्रिया(खुद)से विवाह होता है। वो हर रोज सुप्रिया को ताना मारते हैं और खुद को बड़ा साबित करते हुए सुप्रिया को निचा दिखाते हैं। आज भी वो अपने आप को रोक नहीं पाए और सुप्रिया को सुनाने का काम करते हैं। तब सुप्रिया तत्काल कहती है कि, आज बहुत हिचक रहे हैं। जैसे मुझे आज का दिन याद है,वैसे आपको भी हैं न ? क्यों यह सच है?
श्री वर्मा-हम्म,मुझे याद है।
सुप्रिया-तो कुछ करते क्यों नहीं ?
ये खिड़कियों से रिमझिम बरसती बारिश की बूँदें देख रहे हो ? ये हर बार आती हैं और पूछती है, उनकी सहेली कहाँ है?
श्री वर्मा-मैं क्या कर सकता हूँ ?
सुप्रिया-आप क्या नहीं कर सकते? मैं पढ़ी-लिखी नही हूं,आप तो लोगों को अपने हक के लिए लड़ने का कहते हैं और आप ही क्यों? आपको बड़ा घमंड है न अपनी पढ़ाई का,तो उस दिन आपकी पढ़ाई कहाँ गई थी! जब पहली बार आपने मेरी बेटी को उनके पास नौकरी के लिए भेजा था.. और वो घबरा के सहमी-सी आई थी। वो खिला हुआ फूल हुआ करती थी,अब मुरझा-सी गई है। मैं गई थी बेल्ट लेकर उस नीच को सजा देने,पर अपने मेरा साथ नहीं दिया और मुझे ले आए।
पति-अगर मैं कुछ करता तो, इसमें निशा की ही बदनामी होती और तुम तो इस समाज को जानती हो। उसकी शादी नहीं हो पाती।
सुप्रिया-क्या अब उसकी शादी हो सकती है! ये जो बारिश की बूँदें हैं और निशा जो आज जिन्दा लाश है, उसके आंसू की बूँदें पोंछते हम एक- दूसरे के साथ खेल क्यों नहीं रहे हैं।
मेरे पास जवाब नहीं हैं,क्या आपके पास जवाब है ? समाज के डर के कारण आपने बेटी को इंसाफ नहीं दिलाया। यही दिन था न,जब आप मुझे जिद करके मार्किट ले गए थे।मुझे लग रहा था कुछ गलत होने को है। जब हम लिफ्ट के पास पहुँचे तो, वो पापी दिखा। तब भी आपने कुछ नहीं कहा, और हम घर आए तो मेरी बेटी मौत के मुँह में झूल रही थी।
पति-हाँ मानता हूँ,मुझे कुछ करना था पर बदनामी की निशा की होती। आज भी उसका इलाज उसी के पैसों से हो रहा है।
सुप्रिया-बदनामी के डर से इज्जत खो बैठें ? ऐसे ज़िंदा रहने से तो निशा को मैं मार दूँ।
जब तक आप निशा के लिए लड़ते नहीं,तब तक निशा के मरने की दुआ करुँगी। ऐसी ज़िंदा लाश रहने से तो उसका मरना अच्छा…।
सबकुछ समझने और काफी पढ़े होने वाले श्री वर्मा ऐसे चुप हो गए थे,मानो जिंदगी की ये समझ उन्हें किसी शिक्षक से मिली ही नहीं हो…।

                                                                                   #नेहा लिम्बोदिया

परिचय : इंदौर निवासी नेहा लिम्बोदिया  की शिक्षा देवी अहिल्या विश्वविद्यालय से  पत्रकारिता में हुई है और ये शौक से लम्बे समय से लेखन में लगी हैं। कविताएँ लिखना इनका हुनर है,इसलिए जनवादी लेखक संघ से जुड़कर सचिव की जिम्मेदारी निभा रही हैं। इनकी अभिनय में विशेष रुचि है तो,थिएटर भी करती रहती हैं।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

2 thoughts on “निशा..

  1. बहुत खूब। आजकल एैसे पढे लिखे कायर बहुतायत में पाए जाते हैं।
    लिखते रहिये।
    साधुुवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

उबले हिंदुस्तान

Wed Mar 22 , 2017
जन्मभूमि का मामला, फिर से भरे उफान.. योगी तुम भी देख लो, उबले हिंदुस्तान। उबले हिंदुस्तान, विरोधी को समझाओ.. सीधी अंगुली यार, इसे मत टेढ़ी कराओ। कह सुरेश टूटेगा बबुवा, अगर तनेगा.. राम जहाँ जन्मे, मंदिर तो वहीं बनेगा।।                       […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।