विद्रोह

0 0
Read Time3 Minute, 40 Second
kirti jayaswal
ले चलो ऐ ‘अश्व’ मुझको उस धरा के छोर,
पाप रहित क्षेत्र हो; तम न हो; हो भोर।
भ्रमण करता ‘क्षेत्र’ में; गर्दभ-मति लिए हुए,
पशु,प्रेत बन भटक रहा अज्ञात; शून्य से परे।
देखता हूँ ‘मन की हलचल’ लोचन का प्रकाश ले,
कह न ‘बधिर’; सुन सका न-गूँज अन्तर्रात्मा की।
था विचार चल पडूँ-‘सत्य मार्ग ओर’;
है ‘परिश्रम’; चल पड़ा मैं ‘तम मार्ग ओर’
तम में आकर सब ही ‘गुह्यतम’; खुल सका न ‘भेद’
खुद को खोया; अश्व खोया; छूट गई थी डोर।
तम में खा-खा स्पंद; ‘नव-ज्योति’ में आया;
‘नव-ज्योति’ में आया और अश्व को पाया।
बोला उससे-‘अश्व मुझको! ले चल नगर ओर’;
‘नगर’ में आया; ‘चित्र’ विचित्र ही पाया।
मानव ‘मशीन’! या ’मशीन’ मानव’!.. रहस्य ही रहा।
बम ‘मनुज! या ‘मनुज ‘बम’!..कुछ समझ न यह सका।
भू,वात, शून्य ‘उच्छ्वास’ हैं भरतें;
‘विज्ञान’ का तूने ‘प्राचीर’ बनाया;
तोड़ दे प्राचीर को वो श्वांस भरेंगे,
त्यज मोह; राह ये छोड़; ‘ध्वंस’ करेंगे।
ले चलो ऐ अश्व मुझको ‘वन-हरित’ उस ओर,
‘विपिन’ में आया; मन ‘शांति’ को पाया;
‘विहग-कलरव’ छोर-छोर ‘गूँज’ है मचतीं,
बिल्लियों को बिल्लियां ही नोंचती रहतीं।
‘सर्प’ जैसे ‘शशक’ का अनुसरण करता;
‘शशक’ गर्दन मोड़ फिर-फिर दौड़ता रहता
वृक्ष से जा भिड़ा; फँस गया ‘झाड़ियों’ में;
कंटकों में पैर थें; शिकार बन गया।
‘सर्प’ तो यहां भी हैं; ‘गेंडुरी मारे हुए,
लगता करते ‘अनुसरण’; ‘शिकार’ करेंगे।
‘सर्प’ अतिथि बनकर आतें; हैं ‘अतिथि-सत्कार’ करवातें,
बनकर ‘स्वजन’; डसकर ‘स्वजन’ राज करेंगे।
ले चलो ऐ अश्व! मुझको उन युगों की ओर,
जहां ‘श्री रामचंद्र’ और थे ‘माखन चोर’।
‘त्रेतायुग’ में शांति है; पशुओं में मित्रता है,
‘अनुज’ यहाँ ‘अग्रज’ का विरोध है करता
क्योंकि वह ‘असत्य संगी’; ‘सिया’ का हरण किया,
खो दिया ‘भ्राता’ उसने; असत्य खो दिया;
भेद कह दिया(कि रावण की नाभि में अमृत है)
सत्य विजय  हो गया,
विजयदशमी पर्व रूप याद बन गया।
युध्द ‘कुरुक्षेत्र’ में; जन ने संहार किया,
जन ने ‘स्वजन’ पर ही ‘वार’ है किया;
युध्द में पितामह हैं; भ्राता,चाचा,पुत्र हैं;
‘शर’ से स्वजन पर प्रहार है किया;
क्योंकि वे ‘असत्य संगी’; सत्य से विद्रोह जो
खो कर ‘स्वजन’ को है ‘सत्य’ संग रहा।
कौणप कलयुग के ऊँचे हैं आसन पर,
‘भ्रष्टाचारी’ कलयुग का शैतान है बना;
‘दीन’ का रक्त चूसे; रक्त में वृद्धि करता,
‘कंगाल’ करके ‘कंकाल’ कर दिया;
कृष्ण! हे राम! तू कलयुग में ओझल
नारायण जी! फिर से अवतार ले लो॥
#कीर्ति जायसवाल
इलाहाबाद
(शब्दार्थ:गर्दभ=गधा,शून्य=ईश्वर,बधिर=बहरा,  गुह्यतम=छिपना,स्पंद=झटका,मनुज=मनुष्य,वात=हवा, शून्य=आकाश,प्राचीर=दीवार,विपिन=जंगल, शशक=खरगोश,कौणप=राक्षस)

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

 *पर्यावरण पच्चीसी* 

Mon Aug 6 , 2018
1. पृथ्वी पर चहुँ ओर है,सबहि आवरण सोय। पर्यावरण कहत उसे, मीत सुनो सब  कोय।। 2. क्षितिजलपावक है गगन,बहती साफ समीर। पर्यावरण  वही  बनत, जीवन  और  शरीर।। 3. पेड़ और वन बाग से , बिगड़े नहि ये साज। शुद्ध रहे पर्यावरण, करलो सब अस काज।। 4. खेत-खार  मैदान में , […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।