त्याग तपोमय रूप जगत का सत् अद्भुत शांति कुंज सी पुंज सकल छाया निकुंज इश्वर सम साकार विविध विधि करूणा उपहार जगत में विस्तृत फैले यश तेरा साकार ब्योम सा अंको मे लेले पावन रज की गंध सुगंधित कर दे जीवन परम पिता के अंको मे तू विह्वल खेले मर्यादा […]

हिन्दी तुमसे प्रेम है । अनुराग है । तेरे कारण मन प्रफुल्लित है। जीवन मे आह्लाद है । तुम्हे नमन करता हू । बंदन करता हू । तेरे हि स्पर्श से नित अपनी वाणी तुमको अर्पण करता हू। तू जननी है मुझे दुलारती है। मेरे अब्यक्त शब्दों को संवारती है। […]

मन दर्पण को स्वच्छ बना लू जीवन की शंध्या से पहले। परम पिता को मै अपना लू जीवन की शंध्या से पहले।। आपा धापी दौड धूप चलती रहती है। आशा तृष्णा सदा हृदय कलुषित करती है।। सुबह शाम शंध्या रात्री के प्रहर बीतते संकल्पों मे ब्यथित सदा  होकर हम रहते। […]

भोर हुई तो इंसा देखो, ताकतवर बन जाता है , श्वासों में भर-भर कर आशा, रंग नया भर जाता है , दिन-भर समय बिताता फिर, शाम को घर आ आता है , सारे जग में अपने धन का, फिर डंका बजवाता है , जैसे – जैसे आसमान में , बड़ते […]

मन में अटूट  विश्वास लिए कहनी तुमसे एक बात  प्रिये l तुम पूरण कर देना इसको मन की यह  अंतिम आस  प्रिये l जब तलक साथ हम दोनों प्रिये तुम मेरे हो मैं तुम्हरी हूं l पर आज तुम्हारे सम्मुख मै कल की  तस्वीर दिखाऊं प्रिये l तुम पूरण कर […]

अगर मुझे जीवन की अंतिम  क्षणों मे अपने जीवनसाथी से  अपनी अंतिम इच्छा बताने का मौका मिले तो मैं  अपनी ‘ अंतिम-  आस कुछ इस तरीके से बताना  चाहूंगी।, , , , , ,  मन में अटूट  विश्वास लिए कहनी तुमसे एक बात  प्रिये l तुम पूरण कर देना इसको […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।