Tag archives for matrubhashaa

Uncategorized

हर जन्म में मिलाना मुझसे

कर जोड़ कर रहा हूँ अरदास यह विधाता। हर जन्म में मिलाना मुझसे हमारी माता।। माँ-सा सुघड़ सलोना संसार में न दूजा। भगवान तुमसे पहले माँ की करूँगा पूजा। माँ…
Continue Reading
काव्यभाषा

बस दो गज जमीं

विनय शुक्ला आजकल में, किसी पल में वक्त के तुम, क्रूर छल  में निपट जाओगे, निपट जाओगेl बस दो गज जमीं, के जमींदार बनकर सिमट जाओगे, सिमट जाओगे।   #विनय…
Continue Reading
Uncategorized

प्रतिशोध

काट दिया सिर वीरों का,फिर से उन सब नापाकों ने। रक्त उतर आया है देखो,फिर से सबकी आँखों में।। ओज़ छोड़ अब मर्म समाया,देखो मेरी बातों में। देश का गौरव…
Continue Reading
Uncategorized

मुक्तक

वैकुन्ठ नाथ गुप्त 'अरविन्द' कृष्ण में प्रीति ऐसी अचर हो गई। सूर की साधना भी प्रखर हो गई। आगरा से जो मथुरा को जाती सड़क। रुनकता की ओ माटी अमर…
Continue Reading
Uncategorized

आज़ाद भारत के वैचारिक समन्वयक बाबा साहब

बाबा साहब भीमराव अंबेडकर जयंती विशेष: आज़ाद भारत के वैचारिक समन्वयक बाबा साहब ----अर्पण जैन 'अविचल' धरती जब किसी चरित्रवान् नेतृत्व को जन्म देती है तो निश्चित तौर पर यह…
Continue Reading
12

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है