सपनों का संसार बसाया, हमने तेरी बातों पर… तुझको ही घरबार बनाया, हमने तेरी बातों पर…l    पर न जाने क्या तेरे मन में, जो न आया तू जीवन में… तुझको ही दरबार बनाया, हमने तेरी बातों पर…l    संग चलने के कसमे-वादे, तेरे ऐसे-कैसे ये नेक इरादे… तुझको ही […]

चंद सिक्कों की चमक खनक के आगे, ईमान डावांडोल करते हैं लोग आजकल। वो एक गरीब है जो लाखों का तनबदन, ईमान खातिर लगाता है मजूरी में आजकल। बेशक वो धनवान नहीं है नजर में जमाने की, पर वो ही एक अच्छा बचा है उसकी नजर में आजकल। सफेदी भले […]

रूठे-रूठे यार मनाऊं, लिखूं कविता उसे सुनाऊं। दिल की धड़कन वो बन जाए, मैं उसकी तड़पन बन जाऊं। बेचैनी-बेताबी का आलम, कदम सम्भालो,मैं समझाऊं। दूर-दूर होने में क्या है, चूर-चूर न मैं हो जाऊं। तेरी बातों का ही असर, मत रूठो,मैं न खो जाऊं। ‘मनु’ पुकारे आ भी जाओ, कहीं […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।