हाँ बेटा मेरी मृत्यु पर तुम भी एक मृत्यु भोज कराना। सड़क पर कचरे से भूख मिटाती गइया है न उसे भर पेट हरा चारा खिलाना फिर जीभर शीतल जल पिलाना और देखो !सड़क पर जो आवारा से घूमते श्वान दिखे तो उन्हें भरपेट भोजन कराना हाँ एक काम जरूर […]

छत पर मेरे, बैठी चिड़िया माँगे मुझसे पानी रे।1। बून्द बून्द को तरसे आँगन झुलसे बाग बागानी रे। ताल तलया सूखे सब रीता आँख का पानी रे। बादल रूठे,रूंख पियासे रूठी बरखा रानी रे। काले मेघा भूल गए मग बिसरा चुल्लू पानी रे। छत पर मेरे ,बैठी चिड़िया माँगे मुझसे […]

तपती धरती पर नङ्गे पाँव अधजले शरीर पर अर्धनग्नता लिये हाँफती साँसों के साथ हाड़ो कि लड़ाई करता हूँ हर रोज जिंदगी जीने की हिम्मत करता हूँ तुम बैठे हो ए सी में कूलर में मैं धरती की गोद मे पसीना पोंछ रहा हूँ मैं रिक्शा चालक हूँ तुमसे  पूछ […]

डटे हुए दिन रात दीवाने नित देश मे खुशहाली हो। देखो साथी !उनके घर भी खुशियो भरी दिवाली हो। घर नही है, है देवालय वो पूजा की थाली रख आना। एक दिया उम्मीदों वाला चौखट पर उनके धर आना। खेला कूदा वो जिस आँगन झोली उस माटी से भर लाना। […]

मोमबत्तिजलाकर दो दिन  मौन मत हो जाओ तुम मैं जल रही हु हर घर मे अब तो आवाज उठाओ तुम बात अब नही बनेगी   खाली कोरी बातो से  बनकर सखा ,द्रोपदी का अबतो चीर बढाओ तुम बहुत हो चुकी नारे बाजी  दिया कोई जलाओ तुम कहि किसी नारी को अपनी […]

सोचते भी हो हमे एक पल के लिए कभी भूलते ही नही हम तुम्हे एक पल के लिए भी। कि न खुद से भी कभी जो हमने  मोहोबत तुम्ही को बेहिसाब भेजते है।  शिद्दत से पाला थाजिंदगी को  सांसो का अपनी अपनी हिसाब भेजते हैं। समझोगे दिल की बेचेनिया शायद […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।