आज पहला दिन है गर्मियों की छुट्टियों का,एक अजब-सी बेफिक्री भी है,और गजब की फिक्र भी। बेफिक्री इस बात की कि,घड़ी का अलार्म बजने से पहले ही आंख खोलकिचन में घुसकर बच्चों के लिए दूध बनाकर देना,स्कूल का टिफिन बनाकर रखना। उफ्फफफ्,ये टिफिन में क्या  बनाकर देना है! यदि […]

जीवन की सांझ हो चली है,वह भी जानती है वह अब जाने को है। समेट रही है अपनी ज़िम्मेदारियां आहिस्ता-आहिस्ता..और बांट रही है जो है बचा-कुचा। रोज़ गूँथती है घर-संसार अपने बेटे का,पता नहीं, कौन-सी शाम जीवन का सूरज ढल जाए..। कभी अलमारियों के कपड़े सहेजती है,कभी रसोई की सफाई […]

1

‘ज़मीन नहीं बन सकी तो आसमान बन गई यथार्थ से परे बस कल्पनाओं का जहान बन गई….।।’ ऐसा होता तो होगा सबके जीवन में, नहीं तो यह ख़्याल यकायक उफ़ान नही उठाता ज़हन में। इस जीवन रुपी प्रयोगशाला में हम सभी की एक अपनी-अपनी ताख़ है,अलग-अलग आकार के कांच के […]

मनुष्य की निजता (प्राइवेसी)उसकी सबसे बड़ी पूँजी है,सदैव एक सीमा रेखा खींकर रखिए। इस सीमा को लांघने से पहले हर कोई,चाहे वह आपके प्रियजन ही क्यों न हों, एकबार पूछने को विवश हों कि-क्या मैं इस सीमा के अन्दर प्रवेश कर सकता हूँ? और आप सामाजिक,परिवारिक पर्यावरण में भले ही […]

‘भाषा’,,,एक माध्यम जिससे हम अपने भावों और विचारों को बोलकर,लिखकर या सुनकर अपनी बात किसी को समझा या बता सकते हैं। यह ‘भाषा’ की सबसे सरलतम परिभाषा है,जिसे किसी भी भाषा विशेष के ‘व्याकरण’ के प्रथम अध्याय में व्याख्यापित किया जाता है। ‘भाषा’ शब्द का अंकुर जब पुस्तकीय गर्भ से […]

1

उलझी बातों से जीवन सुलझाती… या सुलझी बातों में जीवन उलझाती… मैं सारी या आधी, मैं मझधार या किनारा.. मैं धार की पतवार, मैं मोह या माया..। मैं विरक्ति या आसक्ति, मैं वृष्टि या छाया.. मैं सत्य या भ्रम, मैं दिगभ्रमित मदमस्त हवा..। या सुरभित मधुमासी बयार, मै श्रद्धा या […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।