सूर्य को दीपक दिखाया जा रहा है, कद अंधेरे का बढ़ाया जा रहा है। उसकी हालत देखकर आया हूँ मैं, दूध चम्मच से पिलाया जा रहा है। जैसे कोई भेड़ बकरा मर गया , इस कदर मातम मनाया जा रहा है। रो रहे मुर्दे पड़े शमशान में, आदमी जिंदा जलाया […]

है मेरा राम को वन्दन, मिरा रहमान को वन्दन। जिन्हें भाते थे राधाकृष्ण, उस रसखान को वन्दन॥ सदा ही सत्य शुचिता की, बनी पहचान है भारत, करूं मैं हर समय इस, जगत की पहचान का वन्दन॥                             […]

  कितना बदल गया है दिनमान आज का, दुष्टों को मिल गया है वरदान आज का। जड़ से सभी उखड़ गए,छोटे हों या बड़े, सबको तबाह कर गया तूफान आज का। जिसको भी देखिए वही फतुही पहन रहा, खिलवाड़ हो गया है परिधान आज का। सरकार कोई इस पर कोशिश […]

मुल्क के पहरुओं को जागना जरूरी है, बढ़ रही तबाही को रोकना जरूरी है। योजना चली,लेकिन हर जगह नहीं पहुंची, फाइलें उठाकर ये खोजना जरूरी है। आने वाली पीढ़ी में अपना मुंह दिखाने को, एक वृक्ष उल्फत का रोपना जरूरी है। क्रांति आ नहीं सकती व्यक्तिगत लड़ाई से, इस कदम […]

1

हालातों की बेड़ियों से बंधा, ‘बंदा ‘वो बड़ा मजबूर  है। बहना के ब्याह की चिंता से, वो आज घर से बहुत दूर है। ज़ख्म पर नमक डालकर, उसके घाव को हम करते नासूर हैं। बाल बिखरे,कपड़े व्यवस्थित नहीं, तो समझते उसको हम धूर्त हैं। रहन-सहन में परिवर्तन करे तो कहते […]

अर्ज करता हूं मैं तुमसे बारहा इज्जत के साथ, तुम नहीं बर्दाश्त मुझको अब किसी कीमत के साथ। रहनुमाई ने तुम्हारी गर्क में पहुंचा दिया, आज कहना पड़ रहा है बहुत ही गैरत के साथ। कूदकर कॉलर पकड़ लेने को बेबस मत करो, बेइज्जत भी जानता हूं खूब,मैं स्वागत के […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।