बड़ी सी गोल बिंदी,,,  चेहरे पर प्यारी सी मुस्कान,,,  संसद की  उपमा चली गई,, सादगी और सोम्‍यता की,,,  अद्भुत प्रतिमा चली गई,,, किया काल ने छल तो देखो,,, निश्छल “सुषमा” चली गई,,, #सचिन राणा हीरो Post Views: 153

था अंधेरा घना भयंकर , मगर अब सूरज उगने लगा है,, मेरा अपना सा कश्मीर आज सचमुच अपना लगने लगा है  कश्मीर मेरे देश का मस्तक, तब मुझे एक आंख नहीं भाता था जब लाल चौक पर मेरे देश का तिरंगा नहीं फहराया जाता था एक देश है, एक तिरंगा, […]

दोस्त की बहन को बहन ही समझो जिसके घर एक ही थाली में खाना खाया है उस दोस्त के मां-बाप की हमेशा इज्जत कर लो जिनके पांव को हाथ लगाया है, मजहब जाति धर्म से बढ़कर याराना होता है मित्रता का मतलब तो बस मित्र का हो जाना होता है […]

राजा तेरे राज में यह कैसी हाहाकार है, प्रजा को न्याय नहीं तेरी यह कैसी सरकार है, बेटियों की इज्जतें क्यों रुसवा हो रही, अस्मते है लूट रही क्यों बेटियां है रो रही, आंसू पोछने वालों से ही क्यों मिली दुत्कार है, राजा तेरे राज में यह कैसी हाहाकार है, […]

जीवन की झोली में जब केवल गम होंगे, जब कोई नहीं होगा तब केवल हम होंगे, जब दौलत अच्छी ना लगेगी शोहरत से जी घबराएगा, एक दूजे को देखे बिना तब चैन नहीं आ पाएगा, भीड़ भरे आंगन में भी जब तन्हा केवल हम होंगे, जब कोई नहीं होगा तब […]

आधुनिकता के युग में कुछ ऐसे हम आए लैटर बॉक्स तक को हमारे बच्चे जान नहीं पाए कंप्यूटर, मोबाइल की दुनिया में कुछ ऐसे झूल गए हैं नीली, पीली खत चिट्ठियों को हम भी भूल गए हैं कैसे हम डाकघरों में पंद्रह पैसे में खत मांगा करते थे कैसे घर […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।