घुटुवन के बल जाए के, माखन में अंगुरी डूबाए के कछू खाए रहे,कछू गिराए रहे, माखन चोर लीला रचाए रहे। ग्वाल-बालन के टोली बुलाए के, छींके तक टीला बनवाए के खुद खाए रहे,सबन के खिलाए रहे, माखन चोर उड़दंग मचाए रहे। सब सखन के संग मिलाय के, जमुना के तट […]

रक्षा बंधन के पावन पर्व की धूम अभी शांत नहीं हो पाई थी कि, ‘चंडीगढ़ की वर्णिका कुंडू’ का पीछा किन्हीं राजनेता के सुपुत्र द्वारा किए जाने की घटना आज हर तरफ फैली हुई है। ऐसा नहीं है कि-यह कोई पहली घटना है। रोज़ाना ऐसी शर्मसार करती,और बड़े शहरों-महानगरों मे […]

चाहत न रही,अब वो भी अनचाहा ख्याल हो गया। एक दुआ कुबूल नहीं,अब ख़ुदा भी बवाल हो गया ll उससे मिलना तो छोड़िए, ख्वाबों  में भी नहीं आता। सहर न आई कोई,उसको सुने एक साल हो गया ll बड़ी दूर निकल आया हूँ मैं  इस  वीराने  बंजर  में। थक गया […]

सतरंगी चुनर माँ तेरी अनेक्य में एका-सी आभा लहराई है। गर्वीले इतिहासी आभूषण ने माँ तेरी शान बढ़ाई है॥ अमृत-सी तेरी वाणी में असंख्य भाषाई त्रिवेणियां बल खाई हैं। माँ तेरे माथे की बिन्दियां ज्ञान सूर्य बन,जग चमकाई हैं॥ पग को धोता हिन्द है द्योतक यहाँ, वेद-योग की गहराई है। […]

ह्रदय  को  वो  चाहे जितना  समझा ले, फिर भी तो  उसको  थोड़ा  दुःख  होगा। देखकर  हाथों  की  गीली  मेहँदी  को, आज स्वयं उसका मुख भी बेमुख होगाll               कंधे पर जो हाथ कभी  रखती  थी वो, हरी सौ चूड़ियों  से  कल भर  जाएगा। चढ़ा हुआ जो आंख तलक  एक आँसू, […]

मै परीकथाएं लिखती हूँ,क्योंकि जीवन का १५ प्रतिशत यथार्थ,८५ फीसदी कल्पनाओं की परीकथा से ही संवरता है,और मुझे अपना यथार्थ भी परी कथाओं-सा स्वप्निल चाहिएl  कहीं किसी ने मेरी रचनाओं को पढ़कर कहा-`खूब परी-कथाएं लिखिएl` तब से सोचती हूँ हर रोज़.. `क्या गलत करती हूँ जो, हर तरफ लगी साम्प्रदायिकता की […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।