हर मौसम का आनंद लेता सुविधा सम्पन्न, साधनहीन गरीब का निकल जाता है दम। ग्रीष्मकाल के लुलपट ने प्राण पखेरू उड़ा लिया, भारी वर्षा में इनके शिशु नाले में बहते देखा गया। जब आई शीत ऋतु तो निमोनिया ने निगल लिया। धनी व्यक्ति के घर में एसी मशीन जो लगी […]

धीरे बोलो गुस्सा मत करो, मुस्कराते रहो ये सब तुम सिखा गए। विद्या का ज्ञान संस्कारों का पाठ, सिखाकर डोली में विदा कर गए। बाबुल तुम छोड़कर कहाँ चले गए..॥ त्याग,ममता,स्वाभिमान से जीना सिखा गए , आत्मग्लानि से परे सर उठाकर, जब हम जीना सीख गए, बाबुल तुम फिर भी […]

सफलता की नई सीढ़ी , हमें चढ़ने नहीं देते। मुकामों को नए वो अब, हमें जड़ने नहीं  देते॥ सदा ही दूर ही रहना, यहां इंसान कुछ ऐसे… हमें अपने यहां आगे, कभी  बढ़ने नहीं देते॥ सफलता की नई सीढ़ी, चढ़ेंगे  हम यहाँ यारों। कभी थप्पड़ उन्हीं मुँह पर, जड़ेंगे हम […]

आप हमारे पालक पापा, नेह करे हैं बालक पापा। दें अपना आशीष हमेशा, कौन भला होवे तब जैसा। आज मुझे है संकट भारी, साथ सदा दें आप हमारी। देख रहा हूँ आहट पापा, आप रहे हैं चाहत पापा।                         […]

अहिँसा परमो धर्म हमारा, पर आगे की सुन लो बात। निजरक्षा के हेतु चलाना, आता हमको घूँसा-लात॥ मातृभूमि होती सर्वोपरि, अगर दिखाई उस पर आँख। भूल अहिंसा को जाएंगे, काटेंगे नव अंकुर पाँख॥ शस्त्र और शास्त्र दोनों ही, रामायण गीता सिखलाय। अब तो जागो मीत   हमारे, ‘अवध’ सभी को […]

मेरे पिता सच्चे सीधे इन्सान थे, मेहनती किसान थे भगवान के अच्छे और सच्चे भक्त थे। मुझे जबसे याद है मौसम कोई भी हो, सुबह पाँच बजे रोज उठ जाते थे, आधा-एक घंटा भगवान की भक्ति पलंग पर ही बैठे-बैठे करते थे फिर उठकर सुबह के नित्यकार्य करते थे। नहाने […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।