शब्द से मैं वेदना की प्रीत लिखना चाहता हूँ, काव्य की संवेदना से रीत लिखना चाहता हूँ। _ पथ न विचलित हो सृजन की वादियों में इसलिए, लेखनी से चेतना का गीत लिखना चाहता हूँ।   धर्म यह कवि का नहीं,चारण बने युगदेव का, कर्म का पथ छोड़कर,तारण बने स्वमेव […]

कमर लँगोटी सिर पर गमछा, खेत  खोदता   लिए कुदाल। आशाओं को दिल में भरकर, फिर  से  भूला पिछला हाल।।   कभी बाढ़ में बह जाता सब, या सूखे   की  भीषण मार। महामारियाँ  नोंच   डालतीं, बार – बार  वह  जाता हार।।   फिर  भी देखो खड़ा हुआ है, […]

पढ़-लिखकर जब बेटा बेरोजगार होता है तो,माँ बेटे दोनों परेशान होते हैं। एक दिन शाम को बेटा घर लौटता है। यदि घर में आकर कोई बच्चा माँ से कहे-मम्मी,मम्मी, लग गई मां,तो क्या कोई भी सुनेगा! यही सोचेगा कि,कहीं चोट-वोट लग गई होगी। सभी के मन में दुख-दर्द,हताशा, निराशा और […]

1

जाने कौन-सा धन मुझमें देखा! जाने क्यूँ मुझसे रुठ गई गरीबी रेखा।। लाख चाहा मैंने इसके नीचे आऊँ, इसके कदमों तले बिछ जाऊँ और पा जाऊँ छोटा कूपन, अब नहीं सही जाती मुझसे मँहगाई की तपन।। हे ! गरीबी की रेखा माता मुझ पर तू हो जा प्रसन्न, ताकि मैं […]

जी रहा हूँ श्वांस हर तेरे लिए, पी रहा हूँ प्यास हर तेरे लिए। हर ख़ुशी-आनंद है तेरे लिए, मीत! मेरा छंद है तेरे लिए। मधुर अनहद नाद है तेरे लिए, भोग,रसना,स्वाद है तेरे लिए। वाक् है,संवाद है तेरे लिए, प्रभु सुने फ़रियाद है तेरे लिए। जिंदगी का भान है […]

ऐसा दीप कहाँ से लाऊँ।। तमस नाश करता है दीपक रोग शोक हरता है दीपक पीर हरे जो किसी दीन की ऐसा दीप कहाँ से लाऊँ।। दीपक जलता जगमग- जगमग चतुर्दिशा आलोकित लगभग जो मन में उजियारा कर दे ऐसा दीप कहाँ से लाऊँ।। ज्ञान रूप जलता है दीपक, शुभता […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।