हत्या की नक्सली धमकियां ?

0 0
Read Time3 Minute, 29 Second
vaidik
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस को मिली हत्या की धमकियां बेहद चिंता का विषय है। दिल्ली, मुंबई और नागपुर से पकड़े गए नक्सलवादियों के दस्तावेजों और चिट्ठियों से ऐसे संकेत मिले हैं कि वे लोग देश में एक और राजीव गांधी- कांड करना चाहते हैं। जनवरी में हुए भीमा-कोरेगांव हिंसा के सिलसिले में पकड़े गए ये माओवादी कोई अनपढ़ और जंगली लोग नहीं हैं। ये पढ़े-लिखे और खाए-धाए लोग हैं। ये अपने आप को बुद्धिजीवी और विचारशील कहते हैं। मैं इनसे पूछता हूं कि क्या वे राजीव गांधी हत्याकांड को दोहराने के दुष्परिणाम की कल्पना नहीं कर सकते ? यदि मोदी को उनकी प्रचार-यात्रा के दौरान उन्होंने कहीं मारने का दुस्साहस कर दिया तो क्या वे यह नहीं जानते कि देश के एक-एक माओवादी-नक्सलवादी को भारत की जनता मौत के घाट उतार देगी ? इंदिरा गांधी की हत्या के बाद हजारों निर्दोष सिखों को मौत के घाट उतरना पड़ा था। वे सिख तो निर्दोष थे लेकिन जो भी अपने आप को माओवादी कहता है, वह हिंसक है या हिंसा का समर्थक है। ऐसे लोगों को निर्मूल करने में भारत की फौज और पुलिस के अलावा आम जनता को भी कौन मना करेगा ? माओवादी अपने सिद्धांतों और विचारों को अहिंसक ढंग से प्रचार करें। उनके इस अधिकार की रक्षा हम सब नागरिक करेंगे लेकिन किसी बड़े नेता पर हाथ डालकर वे उन आदर्शों को भी दफनाने की तैयारी कर रहे हैं, जिनके लिए उन्होंने अपना जीवन समर्पित किया हुआ है। गिरफ्तार माओवादियों के वकीलों ने अदालत में सरकार द्वारा प्रस्तुत प्रमाणों को फर्जी बताया है। उनका तर्क यह है कि गिरफ्तारशुदा लोगों के घरों पर छापा पड़े महिने भर से ज्यादा हो गया। यदि उनमें इतनी खतरनाक सामग्री थी तो पुलिस ने उन्हें उसी वक्त गिरफ्तार क्यों नहीं किया और सारे खतरों को उजागर क्यों नहीं किया ? अब वह जो कुछ कर रही है, वह सरकार के इशारे पर कर रही है। कांग्रेस के नेता संजय निरुपम का कहना है कि जब भी मोदी के पांव डगमगाने लगते हैं, वे इसी तरह की फर्जी कहानियों का जाल बिछा देते हैं। केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने कहा है कि जिन पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है, उनका माओवादियों से कोई संबंध नहीं है। वे दलित नेता हैं। आठवले के बयान ने नई मुसीबत खड़ी कर दी है। यदि रिपब्लिकन पार्टी के नेता आठवले सही पाए गए तो यह मोदी और फड़नवीस सरकार के लिए बड़ा धक्का होगा।
                                                      #डॉ. वेदप्रताप वैदिक

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

अन्नदाता की औकात....

Mon Jun 11 , 2018
यदि औकात पर आ गया अन्नदाता, तो त्राहि-त्राहि मच जाएगी। सत्ता की गोदी में लेटे लोगों, तुम्हारी भी बूढ़ी नानी याद आ जाएगी।। पंचतत्व की भी औकात नहीं है, कि इनका कुछ बिगाड़ सकें। सब मित्र बने हैं बैठे, इन्हें नवबात सिखा सकें।। ये दुनिया के पालनहार यदि, पांव मोड़कर […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।