आतंक के साये में लक्ष्यहीन लोकतंत्र

0 0
Read Time4 Minute, 44 Second
kaji
विश्व के प्रतिष्ठित लोकतांत्रिक देशों में से एक आर्यावर्त ( भारत ) वर्तमान में दिशाविहीन सा प्रतीत होता है क्योंकि शक्तिशाली गणतंत्र के समक्ष अनेकानेक चुनौतियां हैं एवं हम अपनी विक्षिप्त मानसिकता और संकीर्ण कट्टरपंथी विचारधारा के कारण विश्व परिदृश्य से अपनी पहचान खोते जा रहे हैं । देश की वर्तमान जटिल समस्या आतंकवाद है जिसके लिए कहीं न कहीं दलगत दूषित राजनीति और राष्ट्र में तीव्र गति से फैल रहा मज़हबी उन्माद ही दोषी है । हम संक्षिप्तत: यह कह सकते हैं कि भ्रष्टाचार का राजनीतिकरण हो गया है । लोकतंत्र के समक्ष फैली अराजकता से निपटने के लिए शासन को नीतियां निर्धारित कर उसका क्रियान्वयन करना होगा । वर्तमान सरकार की नीतियां , विकासपरक है परंतु कुछ समुदाय या यह कहें कि वर्ग विशेष के कुछ अशिक्षित लोगों के बहिष्कार से संवैधानिक महायज्ञ में अड़चनें आ रही है ।
 लोकतंत्र के समक्ष सरहद पार से बढ़ते आतंकवाद को कुचलने के सिवाय और कोई हल नहीं । लोकतांत्रिक पर्यावरण को परिशुद्धता, सिर्फ जीवट संकल्पों की आक्सीजन से ही मिल सकती है । दुनियाभर में हो रहे आतंकी हमले,न केवल आतंकवादी दावानल को बढ़ा रहे हैं अपितु हमारी वसुधैव कुटुंबकम् की मैत्रीपूर्ण नीति को भी क्षत विक्षत कर रहे हैं ।
 सरहदों पर हमारे रणबांकुरों के अदम्य साहस और निस्वार्थ बलिदान के परिणामस्वरूप ही आज हम स्वयं को स्वतंत्र कह पाते हैं । हमारे महामहिम प्रधानमंत्री की सदभावना यात्राओं ने अवश्य ही विश्व के समक्ष यह संदेश रख दिया है
 कि हम गौतम, गांधी और महावीर के आदर्शों का अनुसरण कर सकते हैं तो समय आने पर भगतसिंह और मंगल पांडे की तरह विद्रोही भी हो सकते हैं ।
 आखिर कब तक हम अहिंसा के बदले हिंसात्मक गतिविधियों को झेलते रहेंगे ?
 आखिर कब तक हमारा लोकतंत्र, समस्याओं की
बेड़ियों में जकड़ा रहेगा ?
 आखिर कब तक सरहद पर आतंक का अजगर फुंफकारेगा ?
   इन प्रश्नों के जवाब तभी मिल सकते  हैं जब हम धार्मिक कट्टरता की दीवारों को ध्वस्त कर केसरिया-हरा में न बंटते हुए एक रंग में एकता के सूत्र में बंधे और आततायी आतंकियों का संहार कर सके ।
 राष्ट्र धर्म, सभी धर्मों से सर्वोपरि होता है ।
लोकतंत्र को दिशाविहीन से विकास, समाजोत्थान और समृद्धि के चरमोत्कर्ष पर पहुंचाने के लिए नैतिक मूल्यों को समझ कर देशहित में निर्णय लेने होंगे । एक ऐसी विचारधारा को जन्म देना होगा जो शोषण का परिष्कार कर सके तभी हमारा ” मेरा भारत महान” का स्वप्न, मूर्तरूप में परिणित हो पायेगा ।
 हिंदी को राष्ट्रभाषा का सम्मान दिलाना होगा ताकि हमारे धर्मयुद्ध में विजय शंखनाद कर सकें क्योंकि राष्ट्रभाषा, देश के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है ।।

#डॉ.वासीफ काजी

परिचय : इंदौर में इकबाल कालोनी में निवासरत डॉ. वासीफ पिता स्व.बदरुद्दीन काजी ने हिन्दी में स्नातकोत्तर किया है,साथ ही आपकी हिंदी काव्य एवं कहानी की वर्त्तमान सिनेमा में प्रासंगिकता विषय में शोध कार्य (पी.एच.डी.) पूर्ण किया है | और अँग्रेजी साहित्य में भी एमए किया हुआ है। आप वर्तमान में कालेज में बतौर व्याख्याता कार्यरत हैं। आप स्वतंत्र लेखन के ज़रिए निरंतर सक्रिय हैं।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पर्यावरण का आधार पेड 

Mon Jun 4 , 2018
मत  काटों इनके हाथ-पैर मत  करों  तुम  इनसे  बैर । लुप्त हुए जबसे घने जंगल बस्तियों में आने लगे  शेर ।। पेड देते फल,औषधि ढेर देते ठंडी हवा शाम-सवेर । पर्यावरण का आधार पेड करें संरक्षण,पाएं पुण्य ढेर ।।             #गोपाल कौशल परिचय : गोपाल कौशल […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।