दुआ़

0 0
Read Time1 Minute, 16 Second
trupti
है दुआ़,पैर में आया कांटा भी फूल बन जाए।
छुओ जो कली तो गुलशन बन जाए॥
रास्ते का पत्थर भी पारस बन जाए,
मौसम की लहर भी बहार बन जाए॥
जिस नजऱ देखो नजराना बन जाए।
दे कोई गर साथ तो हमसर बन जाए॥
मिले कोई राहगीर तो फ़रिश्ता बन जाए।
लड़खड़ाए अगर कदम तो ईश्वर सहारा बन जाए॥
है कभी अंधेरा तो रोशन जहां हो जाए।
रहे न कभी किसी से दूरियां तो नजदीकिया बन जाए॥
न हो कोई दर्द,दुख हर जहां खुशनुमा बन जाए।
है कोई निराशा तो निराशा भी ऐश बन जाए॥

              #तृप्ति तोमर

परिचय : भोपाल निवासी तृप्ति तोमर पेशेवर लेखिका नहीं है,पर छात्रा के रुप में जीवन के रिश्तों कॊ अच्छा समझती हैं।यही भावना इनकी रचनाओं में समझी जा सकती है। मध्य प्रदेश के भोपाल से ताल्लुक रखने वाली तृप्ति की लेखन उम्र तो छोटी ही है,पर लिखने के शौक ने बस इन्हें जमा दिया है।

Arpan Jain

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

जागृति संदेश

Tue Feb 20 , 2018
जागृति का संदेश सुना दें, एकता का स्वर जगा दें।            बहती अमिय की धार में, जीवन के सरस सार में। प्रीति कलश को पूरा भर, अमिय आज थोड़ा छलका दें।   जीवन हुआ सिद्धांतहीन, भावहीन और लक्ष्यहीन। डगमगाते इन डगों को, थोड़ी सीधी राह बता […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।