शिक्षा की बदहाल तस्वीर और मुंह चिढ़ाते आंकड़े

Read Time0Seconds
devendr joshi
इसे विडंबना ही कहा जाना चाहिए कि जिस देश में साक्षरता का प्रतिशत २०११ की जनगणना के अनुसार ७५.०६ हो वहां एनुअल स्टेटस ऑफ एज्यूकेशन रिपोर्ट (एएसईआर) २०१७ के मुताबिक १४ से १८ साल की उम्र के ग्रामीण भारत के २५ फीसदी स्कूली बच्चों को किताब पढ़ना नहीं आता है। ४४ प्रतिशत बच्चों को वजन तौलना नहीं आता है। ८६ प्रतिशत बच्चे लम्बाई नहीं नाप सकते। ५७ प्रतिशत बच्चों को तीन अंकों का भाग करना नहीं आता। यही नहीं,१४ प्रतिशत बच्चे देश का नक्शा नहीं पहचानते। ३६ प्रतिशत बच्चों को देश की राजधानी के बारे में नहीं पता। २१ प्रतिशत बच्चे अपने प्रदेश का नाम नहीं जानते। गणित  की यदि बात करें तो ८वीं से १२ वीं तक के २५ प्रतिशत बच्चों को पैसे गिनना नहीं आता। करीब ४० फीसदी बच्चे घंटे और मिनिट का अंतर बताने में असमर्थ हैं। ऐसा नही है कि एएसईआर ने यह रिपोर्ट कोई पहली बार जारी की है। संस्था सन् २००६ से प्रतिवर्ष अपने सालाना सर्वे के बाद इस तरह की रिपोर्ट जारी कर व्यवहार की वास्तविकता से देश और समाज को अवगत कराती आई है,लेकिन इतने वर्षों के बाद भी बच्चों की समझदारी के स्तर में कोई खास सुधार न होना चिन्ता का विषय है। यह रिपोर्ट अपने-आप में इस बात का प्रमाण है कि सरकारी आंकड़ों  की कथनी और करनी में कितना अंतर है। साल दर साल साक्षरता का प्रतिशत बढ़ने पर खुश होने वाले नीति नियामक आंकड़ों में वर्णित कागजी प्रगति को ही वास्तविक प्रगति मानकर अपने कर्तव्य की इतिश्री कर लेते हैं। उनके पास इतनी फुर्सत नहीं होती कि इन आंकड़ों में जो कुछ कहा जा रहा है कभी उसकी हकीकत की भी पड़ताल की जाए। अगर ऐसा किया जाता तो आज ये चौंकाने वाले आंकड़े सामने नहीं आते। शिक्षा और साक्षरता के आंकड़ों में तस्वीर इसलिए चमकदार नजर आती है कि वहां शाला के रजिस्टर में नामांकन को ही शिक्षा और साक्षरता का पर्याय मान लिया जाता है। इस गहराई में जाने की कोई कोशिश नहीं करता कि जिस बच्चे ने शाला में दाखिला लिया है उसके प्रवेश की निरन्तरता की क्या स्थिति है,कहीं उसने प्रवेश लेने के बाद स्कूल छोड़ तो नहीं दिया,जिस कक्षा में वह पढ़ रहा है उस स्तर की शिक्षा या ज्ञान उसे मिल भी पा रहा है या नहीं आदि-आदि। आंकड़ों की किताब में शिक्षा और साक्षरता की स्थिति दर्ज करने वाले दस साल में एक बार ही आते हैं। उनके लिए देश के बच्चों की शिक्षा और साक्षरता महज एक आंकड़ा है,जबकि हमारे लिए यह एक संवेदनशील मामला है क्योंकि आप और हम इसमें देश का भविष्य तलाशने की माथापच्ची कर रहे हैं। इस तरह की रिपोर्ट या सर्वेक्षण जहाँ शिक्षा की जमीनी हकीकत को सामने लाती है,वहीं इस बात की ओर भी इशारा करती है कि सिर्फ शैक्षणिक कैलेंडर का सख्ती से पालन होना,बच्चों की परीक्षा लेकर उत्तीर्ण की अंकसूची थमा देना और शाला में दाखिले को ही साक्षरता का पर्याय मान लेना पर्याप्त नहीं है। अगर हम वाकई देश की शिक्षा की तस्वीर बदलना चाहते हैं तो हमें इस बने-बनाए फ्रेमवर्क से बाहर निकलना होगा। ऐसी शिक्षा किसी काम की नहीं है जो अपने विद्यार्थियों को उपाधि या अंकसूची तो देती हो लेकिन उनके समाजोपयोगी व्यावहारिक ज्ञान में वृद्धि नहीं करती हो। आज आवश्यकता इस बात की है कि, आंकड़ों के भ्रमजाल में उलझने की बजाय बच्चों को शालाओं में दी जा रही शिक्षा को परिणाममूलक और जीवनोपयोगी बनाने पर जोर दिया जाए। तभी हम भारत को विश्व गुरू बनाने का सपना साकार कर पाएंगे।
          #डॉ. देवेन्द्र  जोशी

परिचय : डाॅ.देवेन्द्र जोशी गत 38 वर्षों से हिन्दी पत्रकार के साथ ही कविता, लेख,व्यंग्य और रिपोर्ताज आदि लिखने में सक्रिय हैं। कुछ पुस्तकें भी प्रकाशित हुई है। लोकप्रिय हिन्दी लेखन इनका प्रिय शौक है। आप उज्जैन(मध्यप्रदेश ) में रहते हैं।

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मातु शारदे,वर दे

Tue Jan 23 , 2018
मातु शारदे वर दे…। धवल पुष्प विराजनी रजत वस्त्र धारणी समस्त वरदायनि मां वीणा पाणिनी… ज्ञान-विज्ञान-संस्कार जीवन में भर दे मातु शारदे वर दे…। मुनिजन,गुणीजन मन में है ध्यावे, तुमसे ही संसार सदा ज्ञान पावे अज्ञान-तम-अँधेरा जीवन से हर दे मातु शारदे वर दे…। अक्षर सुरों की तुम्ही माँ हो […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।