जीवन के अधूरे सपने…

0 0
Read Time4 Minute, 10 Second
rupesh kumar
जीवन में मुझे कुछ शब्दों से काफी नारजगी मिली,जो कभी पूरा हुआ ही नहीं,भले उसे किसी तरह उपयोग किया जाए। अगर हुआ भी तो सिर्फ भाग्यवालों का ही। जैसे-रिश्ता,ज़िसमें कभी-न-कभी मनमुटाव आ ही जाता है। कैसा भी रिश्ता हो-माँ से बेटे का,पिता से बेटे का, चाचा से भतीजा से,भाई से भाई का,  बहन से भाई का और प्रेमी से प्रेमिका का रिश्ता। हाल ही में बहुत सारी घटनाएं मीडिया से देखने-सुनने को मिली,जिसमें  आरुषि तलवार के माँ-बाप का रिश्ता भी शामिल है। इसी प्रकार प्यार य़ा प्रेम का रिश्ता जो जीवन के लिए सबसे महत्वपूर्ण है,ज़िसका जीवन में सबसे ज्यादा एवं खास स्थान है,वो बिरले ही पूरा होता है। खास तौर से देखा जाए तो यह अधूरा ही होता है। जैसे प्रेमी-प्रेमिका, माता-पिता,भाई-बहन इस आधुनिकता में अधूरा रिश्ता है। यह एक शौक भी हो गया है,जैसे-लैला मजनूं का रिश्ता,शीरी- फरहाद का आदि। अगला जन्म ले ले तो भी ज़िन्दगी में ये सपना तो कभी-किसी का पूरा हुआ ही नहीं,क़्योंकि अक्सर सुनने में आता है कि,ये इतने दिन ही जीवित रहे। ये सोच रहे थे,पर पूरा नहीं  कर पाए। ये करने गए थे पर चल बसे।  किताब लिख रहे थे अधूरी छोड़कर चल बसे,इस प्रकार की अनेक बात सुनने को मिलती है। इसका तात्पर्य यही ना,कि ज़िन्दगी में किसी का स्वप्न पूरा नहीं  हुआ है। ४ बच्चों में अक्सर सुनने को मिलता है कि मेट्रिक या इंटर का परीक्षा फल अच्छा नहीं आया तो आत्महत्या कर ली,य़ा सरकारी नौकरी की तैयारी करता था। मेहनत करने पर भी जब अच्छा परिणाम नहीं आया य़ा ज़िसमें  चाहा,उसमें चयन नहीं हुआ तो
आत्महत्या कर ली। ये नौजवानों,छात्रों  में हमेशा सुनने को मिलता है,जैसे डॉ. कलाम ‘विजन-२०२०’ देखना चाहते थे, रावण,स्वर्ग में सीढ़ी लगवाना चाहता था,  दामिनी ज़िन्दा रहकर चिकित्सक बनना चाहती थी,और अनेक विद्यार्थी जो हर साल मई-जून में आत्महत्या करते हैं तो  कुछ अप्रैल में। कुछ मेट्रिक-इंटर के परिणाम के बाद और कुछ कर्मचारी चयन सेवा के परिणाम के बाद दिल्ली य़ा इलाहाबाद के ‘डेथ ऑफ रिवर’ में मिलते हैं। अंतिम है वो है फरिश्ता,ज़िससे मिलना हर कोई चाहता है लेकिन कोई मिल नहीं पाता है। आम इंसान से लेकर साधु-संत तक लेकिन किसी को मिले नहीं,मिले उसी को जिसने इस आधुनिक जीवन से मुंह मोड़ा। जैसे-स्वामी विवेकानन्द,रामकृष्ण परमहंस इत्यादि,  अन्यथा तो सभी साधु-संत झूठ का ज़रिया बनाकर लोगों का शोषण ही कर रहे हैं।
           #रुपेश कुमार

परिचय : चैनपुर ज़िला सीवान (बिहार) निवासी रुपेश कुमार भौतिकी में स्नाकोतर हैं। आप डिप्लोमा सहित एडीसीए में प्रतियोगी छात्र एव युवा लेखक के तौर पर सक्रिय हैं। १९९१ में जन्मे रुपेश कुमार पढ़ाई के साथ सहित्य और विज्ञान सम्बन्धी पत्र-पत्रिकाओं में लेखन करते हैं। कुछ संस्थाओं द्वारा आपको सम्मानित भी किया गया है।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

भारती जवान हैं

Mon Jan 22 , 2018
प्यारे-प्यारे देश की हम आन-बान-शान हैं, सीना ताने सरहदों पे भारती जवान हैं। हम कदम-कदम करेंगे देख-भाल रात-दिन, हाथ में लिए तिरंगा इसके पासबान हैं॥ कोई ग़म नहीं है जान जाए इसके वास्ते, हम हथेलियों पे ले के फिरते अपनी जान हैं॥ एकता की ताकतों से हौंसला बुलंद है, मातृभूमि […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।