निर्भया और न्याय

Read Time0Seconds

16 दिसम्बर 2012 को भारत की राजधानी दिल्ली की सुनसान सड़क पर हुए 23 साल की ज्योति के साथ हुए उस हादसे का जिक्र अगर आज भी कभी होता है तो लबों पर शिकायत, दिल में दर्द, मन में डर और आँखों में अश्क होता है ।

वो रात भयानक, गम्भिर, डरावनी और हवस का प्रतीक थी, वो रात मानवता और इन्सानीयत के विपरीत थी, वो रात आज भी भारत की काली रातों में से एक है, वो रात आज भी दुराचारियों के दुराचरण का गिनौना प्रतीक है ।

इस हादसे ने ज्योति को निर्भया बना दिया, इस हादसे ने तमाम देशवासियों को रुला दिया, इस हादसे ने उन 6 नर भेड़ियों का मुखोटा हटा दिया, इस हादसे ने देश की बेटियों की सुरक्षा पर प्रश्न चिह्न लगा दिया ।

चाहे कितनी ही ऊँगलियाँ क्यों न उठी हो,
चाहे कितने ही लांछन क्यों न लगे हो,
चाहे विरोधियों ने काॅर्ट में कितनी ही दलिलें क्यों न रखी हो,
चाहे उन प्रत्यक्ष सबूतों को मिटाने के लिए कितनी ही ज्द्दोजहद क्यों न की हो,
लेकिन आखिरकार इस सच-झूठ की लड़ाई में सच जीता,
उस माँ का विश्वास जीता,
उस पिता का दृढ़ संकल्प जीता,
देश का न्याय तंत्र जीता,
और अंत में न्याय पर भरोसा करने वाला हर एक नागरिक जीता ।

सात साल लग गये निर्भया को न्याय दिलाने की लड़ाई में,
सात साल लग गये उन दोषियों को फाँसी पर चढ़ाने की लड़ाई में पर उस माँ ने अपनी हिम्मत न हारी, उस पिता ने अपनी हिम्मत न हारी जिसका कारण सिर्फ इतना था कि इन झूठी दलिलों के आगे फिर दबकर न रह जाए किसी बेटी की बेबसी और लाचारी, कारण सिर्फ इतना था कि उनकी बेटी जिस दर्द, जिस पीड़ा से गुजरी उससे कोई और बेटी न गुजरे हमारी ।

     'जय हिन्द! जय भारत!'

सुहानी जैन
नाथद्वारा (राजस्थान)

2 0

matruadmin

Next Post

हिंदी

Wed Sep 16 , 2020
2 दिन का हल्ला गुल्ला है, हिंदी की चीख-पुकार है, हिंदी-हिंदी का शोर है, यह हिन्दी कितनी बोर है, सच में यह कितनी ढीठ है, हुई खूब मिट्टी पलीत है, फिर भी यह हिन्दी जिंदा है? अंग्रेजी लल्ला शर्मिंदा है! हाय-हेलू का जमाना है, इस हिंदी को घर से भगाना […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।