रहती है…

Read Time6Seconds
ramnath
जग वालों को बात यही बस खलती रहती है
बीच भँवर में नाव हमारी चलती रहती है।
काबू में रख लेना चाहे हर कोई इसको,
लेकिन ये तो उम्र निगोड़ी ढलती रहती है।
तेरी यादों की बस्ती से हर दिन गुजरा हूँ,
दिल की धड़कन यादों के बल चलती रहती है।
शायद कुछ अच्छा हो मैंने सोचा है हर दिन,
चाहत दिल की हाथ हमेशा मलती रहती है।
जलना और जलाना शायद है फ़ितरत इसकी,
पानी पर भी धूप बिचारी जलती रहती है।
मुझको क्या मतलब है दुनिया भर की दौलत से,
मेरी हसरत इक रोटी पे पलती रहती है॥

                  #रामनाथ यादव ‘बेख़बर'

परिचय: रामनाथ यादव का साहित्यिक उपनाम-`बेख़बर` हैl आप पेशे से हिन्दी के अध्यापक हैंl आपको कवि,गीतकार, कहानीकार और ग़ज़लकार के रूप में जाना जाता हैl आपकी जन्मतिथि-८ नवम्बर १९७८ और जन्म स्थान-चापदानी, हुगली(पश्चिम बंगाल) हैl शिक्षा-एम.ए.(हिन्दी) तथा बी.एड. होकर कार्यक्षेत्र-हिन्दी के अध्यापक(काशीपुर)हैंl आपका शहर कोलकाता(राज्य-पश्चिम बंगाल) है,जबकि वर्तमान निवास बाँस बागान,चापदानी और स्थाई निवास सिताब दियारा जिला-छपरा (बिहार) हैl सामाजिक क्षेत्र एवं गतिविधि में आप साहित्यिक संस्था-सृजन मंच और हिन्दी साहित्य शलभ से जुड़े हैंl मंच संचालक होने के साथ ही अकादमी के जरिए प्रतियोगी परीक्षा के लिए लम्बे समय सेनिःशुल्क मार्गदर्शन मुहैया करा रहे हैं। आपके खाते में प्रकाशन-मुश्किल का हल निकलेगा(ग़ज़ल संग्रह),फूलों की चुभन(प्रेम काव्य) आदि है तो विविध पत्र-पत्रिकाओं में भी रचनाएँ प्रकाशित हैं। सम्मान के रूप में कता और मुक्तक सम्मान,शिल्प सम्मान तथा ब्रजलोक सम्मान ख़ास हैl उपलब्धि यह है कि,आपने स्थानीय टी.वी. पर भी काव्य पाठ किया है। आपके लेखन का उद्देश्य-मानवीय मूल्यों का प्रचार-प्रसार करना,समाज को सही दिशा देना और देशप्रेम की भावना जागृत करने के साथ ही अपनी सभ्यता,संस्कृति की गौरव की रक्षा करना तथा महत्व को रेखांकित करना है।

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

घुंघरू बज उठते हैं...

Sat Jan 6 , 2018
ख्वाब की तश्तरी से क्यूंकर ऐसे लम्हे भी गुजरते हैं, झींगुर-सी बजती रातों में फिर घुंघरू बज उठते हैं। सेज की चादर पर जब भी कोई कनुप्रिया सजती है, बादलों से संधि करती,बिजलियों से मांग भरती है। भाग्य का देकर दिलासा,उसकी चूड़ियां हंसा लेती है, खनक-खनक कर नाहक ही किस्मत […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।