खून के रिश्ते

1
Read Time3Seconds
YASHPAL NIRMAL
एक देश था
एक भेष था,
एक जान थी
एक पहचान थीl 
ईद थी
दिवाली थी,
हर जगह
सांझ थी
भगाली थी।
कितना सुंदर संसार था
स्वर्ग जैसा जहान था,
लग गई इसे 
किसी की बुरी नज़र 
पड़ गई लकीरेंl 
लकीरों ने बना दिए फासले
उम्रों के फासले,
न मिटने वाले फासले।
बना दिए मुल्क
अलग-अलग।
बांट ली धरती,ज़मीन
बांट ली हवा,
पानी
रिश्ते
आकाश
संस्कृति
भाषा
धर्म
मजहब
ईमान
प्रेम
सब बांट लिया।
आख़िर यह कसूर
है किसका…?
भाई-भाई में
बो दिए बीज, 
नफ़रत 
घृणा
अविश्वास के।
कोई जाए
उन्हें समझाए,
हमारा उनका मिलन
करवाए
हम हैं 
उनके
सगे भाई।
हमारे रिश्ते
खून के रिश्तेll 
(शब्दार्थ:भगाली-सांझेदारी)

#यशपाल निर्मल

परिचय:श्री यशपाल का साहित्यिक उपनाम- यशपाल निर्मल है। आपकी जन्मतिथि-१५ अप्रैल १९७७ और जन्म स्थान-ज्यौड़ियां (जम्मू) है। वर्तमान में ज्यौड़ियां के गढ़ी बिशना(अखनूर,जम्मू) में बसे हुए हैं। जम्मू कश्मीर राज्य से रिश्ता रखने वाले यशपाल निर्मल की शिक्षा-एम.ए. तथा एम.फिल. है। इनका कार्यक्षेत्र-सहायक सम्पादक (जम्मू कश्मीर एकेडमी आफ आर्ट,कल्चरल एंड लैंग्वेजिज, जम्मू)का है। सामाजिक क्षेत्र में आप कई साहित्यक, सांस्कृतिक एवं सामाजिक संस्थाओं में सक्रिय रुप से भागीदार हैं। लेखन में विधा- लेख,कविता,कहानी एवं अनुवाद है। आपकी रचनाओं का प्रकाशन विविध माध्यमों में हुआ है। सम्मान की बात करें तो साहित्य अकादमी का वर्ष २०१५ का अनुवाद पुरस्कार आपको मिला है। ब्लॉग पर भी सक्रिय यशपाल निर्मल को
कई अन्य संस्थाओं द्वारा भी सम्मानित किया गया है। आपके लेखन का उद्देश्य- समाज में मानवता का संचार करना है।

0 0

matruadmin

One thought on “खून के रिश्ते

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

आधुनिक भारत के निर्माता पं. जवाहरलाल नेहरु

Wed Nov 15 , 2017
(बाल दिवस विशेष) देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू आधुनिक भारत के निर्माताओं में एक माने जाते हैं। देशभर में उनके जन्म दिन १४ नवम्बर को ‘बाल दिवस’ के रूप में मनाया जाता है। नेहरु बच्चों से  बेहद प्यार करते थे,और यही वजह थी कि उन्हें प्यार से ‘चाचा […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।