त्योहार और बाजार…!!

Read Time3Seconds

tarkesh ojha

कहते हैं बाजार में वो ताकत है,जिसकी दूरदर्शी आंखें हर अवसर को भुनाकर मोटा मुनाफा कमाने में सक्षम हैं। महंगे निजी स्कूल,क्रिकेट,शीतल पेयजल व मॉल से लेकर फ्लैट संस्कृति तक इसी बाजार की उपज है। बाजार ने इनकी उपयोगिता व संभावनाओं को बहुत पहले पहचान लिया और नियोजित तरीके से इस क्षेत्र में आहिस्ता-आहिस्ता अपना आधिपत्य स्थापित भी कर ही लिया है। कई साल पहले जब बोतलबंद पानी का दौर शुरू हुआ तो मन में सहज ही सवाल उठता…क्या जमाना आ गया है,अब बोतलों में पानी बिकने लगा है,लेकिन आज हम सफर के लिए ट्रेन पकड़ने से पहले ही बोतलबंद पानी खरीद कर बैग में रख लेते हैं। कई दशक पहले ही बाजार ने त्योहार को भी अवसर के रूप में भुनाना शुरू कर दिया। त्योहार यानी बड़ा बाजार,पहले जेबें खाली होते हुए भी त्योहार मन को असीम खुशी देते थे। त्योहार के दौरान दुनिया बदली-बदली सी नजर आती थी,लेकिन दुनियावी चिंताओं के फेर में धीरे-धीरे मन में त्योहारों के प्रति अजीब-सी उदासीनता घर करने लगी। मन में सवाल उठता…यह तो चार दिन की चांदनी है…। जब दिल में खुशी है ही नहीं,तो दिखावे के लिए खुश दिखने का मतलब। फिर त्योहारों में भी अजीब विरोधाभासी तस्वीरें नजर आने लगती। त्योहार यानी एक वर्ग के लिए मोटे वेतन के साथ अग्रिम और बोनस के तौर पर मोटी रकम के प्रबंध के साथ लंबी छुट्टियां की सौगात। फिर पर्यटन केन्द्रों में क्यों न उमड़े भीड़। सामान्य दिनों में पांच सौ रुपयों में मिलने वाले कमरों का किराया पांच गुना तक क्यों न बढ़े। आखिर इस वर्ग पर क्या फर्क पड़ता है। लंबी छुट्टियां बिताकर दफ्तर पहुंचेंगे और महीना बीतते ही फिर मोटी तनख्वाह खाते में जमा हो जाएगी। फिर सोचता हूं ठीक ही तो है,ये खर्च करते हैं तो उसका बंटवारा समाज में ही तो होता है। किसी न किसी को इसका लाभ तो मिलता है। बीच में त्योहार की चकाचौंध से खुद को बिल्कुल दूर कर लिया था,क्योंकि त्योहार की धमाचौकड़ी के बीच गुबारे बेच रहे बच्चों की कुछ आमदनी हो जाने की उम्मीद में चमकती आंखें और सवारियां ढूंढ रहे रिक्शा चालकों की सजग-चौकस निगाहें मन में अवसाद पैदा करने लगी थी। कोफ्त होती कि,यह भी कैसी खुशी है। एक वर्ग खुशी से बल्लियों उछल रहा है,तो दूसरा कुछ अतिरिक्त कमाई की उम्मीद में बेचैन है। क्या पता उसे इच्छित आमदनी न हो,तब क्या बीतेगी उन पर…। विजयादशमी के हुल्लड़ में मैंने अनेक चिंतित और हैरान- परेशान दुकानदार देखे हैं। जो पूछते ही कहने लगते हैं… क्या बताएं भाई साहब,इस साल आमदनी नहीं हुई,उल्टे नुकसान हो गया…ढेर सारा माल बच गया। हिसाब करेंगे तो पता चलेगा कितने का दंड लगा है। समझ में नहीं आता… अब बचे माल का करेंगे क्या। इस भीषण चिंता की लकीरें बेचारों के परिजनों के चेहरों पर भी स्पष्ट दिखाई पड़ती है। सचमुच त्योहारों ने संवेदनशील लोगों के दिलों को भारी टीस पहुंचाना शुरू कर दिया है। इस साल विजयादशमी से करीब एक पखवाड़े पहले मेरे छोटे-से शहर में चार बड़े शॉपिंग मॉल खुल गए हैं,जिसमें हर समय भारी भीड़ नजर आती है। माल के कांच के दरवाजे ठेलकर निकलने वाले हर शख्स के हाथ में रंगीन पैकेट होता है,जो उनके कुछ-न-कुछ खरीददारी का सबूत देता है। लोग खरीदें भी क्यों नहीं…,आखिर ब्रांडेड चीजें भारी छूट के साथ मिल रही है। साथ में कूपन और उपहार भी,लेकिन फिर सोचता हूं इसके चलते शहर के उन चार हजार दुकानदारों की दुनिया पर क्या बीत रही होगी, जहां इस चकाचौंध के चलते मुर्दनी छाई हुई है। सचमुच यह विचित्र विरोधाभास है। हर साल हम नए मॉल खुले देखते हैं, वहीं पहले खुले मॉल बंद भी होते रहते हैं। रोजगार से वंचित इनमें कार्य करने वाले बताते हैं कि,मालिकों ने बताया कि भारी घाटे के चलते मॉल को बंद करना पड़ा या फिर बैंकों के ऋण का कुछ लफड़ा था। फिर मस्तिष्क में दौड़ने लगता कि,खंडहर में तब्दील होते जा रहे बंद पड़े वे तमाम मॉल जो कभी ऐसे ही गुलजार रहा करते थे। फिर सोच में पड़ जाता हूं,आखिर यह कैसा खेल है। दुनिया में आने-जाने वालों की तरह इस बाजार में रोज नया आता है,तो पुराना रुखसत हो जाता है।

                                                                     #तारकेश कुमार ओझा

लेखक पश्चिम बंगाल के खड़गपुर में रहते हैं और वरिष्ठ पत्रकार हैं | तारकेश कुमार ओझा का निवास  भगवानपुर(खड़गपुर,जिला पश्चिम मेदिनीपुर) में है |

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

नहीं रही वो बात

Mon Oct 2 , 2017
अब न वो सुबह होती है, न वो वैसी रात होता तो सब है मगर, अब नहीं रही वो बात। अब न वैसी गर्मी होती है, न वैसी बरसात होता तो सब है मगर, अब नहीं रही वो बात। अब न वैसे लोग मिलते हैं, न ही वैसे ख्यालात मिलते […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।