न आशा,न राम

6
Read Time6Seconds

har bhagvan
कहने को तो संत है,न आशा न राम,
आचरण इनका देखिए,गुण्डों जैसे कामl

गुण्डों जैसे काम,खुद ने यो कृष्ण बताए,
दुराचार का धंधा,कब से रहो चलाएl

जुड़ा नाम में राम,काम रावण ते बदतर,
व्याभिचार में लीन,उमर हो गई बहत्तरl

नहीं उमर की लाज,बच्ची वो पोती जैसी,
शरम न आई इनको,नीयत कर ली खोटीl

ऐसे दुराचारी को जब,नेता शीश झुकावें,
आम आदमी सामने इनके,कहाँ टिक पावेl

अरबों-खरबों लूट के,देखो इनके ठाठ,
जो चाहे ये सो करें,बॉक्सर चलते साथl

बॉक्सर चलते साथ,ज़रा न ये घबराए,
रब ते ऊपर खुद ने हरदम ये बतलाएl

औरन को तो ज्ञान देत,पर ये समझ न पात,
कुकर्म करत लज्जा नहीं,अब फिरते मुंह छिपातl

बैठे भीतर जेल में,सुन लो इनकी बात,
काजू-किसमिस चाहिए,न भावत दाल व भातl

देखो उनके बेटे को भी,जागो है पितृ मोह,
आचरण कियो है बाप को,अब अंदर है वोll

#हर भगवान शर्मा

परिचय : हर भगवान शर्मा की जन्मतिथि-अक्टूबर १९५६ तथा जन्म स्थान-रामगढ़-अलवर (राजस्थान)है। आपका पैतृक स्थान-दिल्ली है,जबकि फिलहाल शहर-टोरंटो-कैनेडा में निवास है। शिक्षा में बी.कॉम.के साथ ही एम.ए., जनसंपर्क में स्नातकोत्तर डिप्लोमा सहित पत्रकारिता में भी उपाधि ली है। कार्यक्षेत्र में आप न्यूयॉर्क(अमेरिका) में बैंक में मुख्य प्रबंधक रहे हैं। वर्तमान में टोरंटो में भी एक संस्था में प्रबंधक हैं। सामाजिक क्षेत्र में संस्थापक हरि मंडल कैनेडा,सुंदरकांड पाठ व भजन संध्या द्वारा एकत्र धन को नेत्रहीन बच्चों की पढ़ाई के लिए उपयोग करना सहित 16 वर्ष से सदस्यों के साथ सेवा में समर्पित हैं। आपकी पसंदीदा विधा-हास्य है,इसलिए आप हास्य व्यंग्य की रचनाएं अधिक लिखते हैं। सम्मान यही है कि,नार्थ अमेरिका में ‘लाफ्टर ब्रिगेड’ के नाम से आपको जाना जाता है। लेखन का उद्देश्य-मनोरंजन और सामाजिक जागरुकता फैलाना है। 

0 0

matruadmin

6 thoughts on “न आशा,न राम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

देशप्रेम

Tue Sep 12 , 2017
देशप्रेम की न सिर्फ बात होना चाहिए, इसके लिए लोगों,कुछ प्रयास होना चाहिए। जंगे मैदान के अलावा भी होते कई काम हैं, जो समाज में रहकर कर सकते हम, वो काम हैं। भारत महान है,ये मेरी शान है, वीरों का मेरे,ये अभिमान है। हो गंगा गोरी की रक्षा,करें गाय की […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।