क्या माँगूं

Read Time1Second
chirag
एक दिन फरियाद मेरी सुनकर प्रकट हुए भगवान,
बोले मांग अपनी मर्ज़ी की एक चीज ऐ इंसान।
बहुत हुआ मैं खुश,लगा सोचने क्या माँगूं जो कर दे मेरी ज़िंदगी आसान,
याद आए कुछ अधूरे सपने,पूरा करने के थे जिनके अरमान।
पैसा,कार या बंगला? क्या माँगूं जो पाकर मैं बन जाऊं सबसे महान,
अर्जुन जैसी नज़र माँगूं या बन जाऊं भीम जैसा बलवान?
माँगूं सीता जी जैसी पत्नी या फिर प्रभु श्रीराम जैसी पहचान,
या फिर माँगूं हमेशा सुखी और तंदरुस्त रहने का वरदान।
क्या माँगूं,क्या माँगूं ?
सोचते-सोचते मैं खुश होने लगा और दुनिया पर हँसने लगा,
सबसे बड़ा बनने के लालच में,हवाई किले बनाने लगा।
फिर लगा दिमाग को एक ज़ोर का झटका,
समझ में आई एक बात।
मोह-माया है ये सब दुनिया की,
कैसे देंगी ज़िन्दगी भर ये मेरा साथ।
माँगूं कुछ ऐसा,जो न छोड़े मुश्किलों में भी मेरा हाथ।
क्या माँगू, क्या माँगू ?
खूब सोचा,आया मन में एक ही विचार,
क्यों न माँगूं उसे,जो है इस सृष्टि का पालनहार।
इरादा मैंने अपना मन में पक्के से ठान लिया,
लोग दौलत पर गिरते थे,मैंने भगवान मांग लिया॥
#चिराग बतरा
परिचय: चिराग बतरा का जन्म स्थान- शाहाबाद मारकंडा है। आप राज्य- हरियाणा और शहर-नई दिल्ली से सम्बन्ध रखते हैं। बी. टेक. की शिक्षा लेने के बाद पेशे से सॉफ्टवेर इंजीनियर हैं। लेखन का उद्देश्य सिर्फ आपकी रुचि है।
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

बादल

Mon Sep 11 , 2017
जब कभी आता है बादल, दिल को हर्षाता है बादलl कोयल चकवा हर्षाते हैं, मोर नचवाता है बादलll धरती सूखी करे पुकार, कर वर्षा करें उपकारl आज मेंढक भी टर्राते हैं, प्रकृति नया करे श्रृंगारll मयूर हो गया है पागल, जब कभी आता है बादलl तन गोरी अंगड़ाई आती, बादल […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।