आदत की रोटी

0 0
Read Time5 Minute, 39 Second

swati

‘ठीक से बेलो’!

‘अरे पलेथन बार-बार क्यों लगा रही हो!`
‘कितने साल हो गए,बराबर रोटी बेलना नहीं आया!`
`कैसे बेलती हो? बीच में पतला-किनारे मोटा? गोल-गोल घुमाओ रोटी को!`
‘बराबर डालो तवे पर,अरे देखो मुड़ गया न..अब फूलेगा नहीं। १मिनट बाद ही कड़ा हो जाएगा!`
‘ठीक से सेंको! चिमटा साइड से दबाओ भई! अरे ये रोटी बीच से फूट गई!’
‘मैं तो आज भी रोटी बना दूँ तो,२ ऊँगली से टूट जाए और ३ निवाले में रोटी ख़तम!`
सास बोले जा रही थी और सरला चुपचाप शायद बीसवीं रोटी बना रही थीl
शादी के १८ साल बाद भी सुबह-शाम ४०-४५ रोटी बनाने के बावजूद उसके सास-ससुर के लिए न तो रोटी कभी गोल बेली गई थी,न बराबर और न मुलायम होती थीl रोटी का सौंधा होना तो दूर की बात थीl पति भी यदा-कदा बोल ही देते थे-माँ जो रोटी बनाती है,वो बात तुम में नहीं! बेचारी रोज़ सोचती,इतने अभ्यास वो किसी और बात में करती तो या तो ओलम्पिक पदक ला चुकी होती या साहित्य अकादमी!
एक साथ ३ जने खाने बैठे थेl सब गरम रोटी ही खाते थेl जल्दी-जल्दी हाथ चला रही थी,और उतनी ही तेज़ी से मन बाँध रही थीl कुछ भी तो नहीं बदला थाl जब ससुराल में उसने पहली बार रोटी बनाई थी,उस समय से आज तकl उस दिन भी माँ ने कुछ सिखा के नहीं भेजा था,और आज भी वो कुछ सीख नहीं पाई थीl अब तो ये आदत हो गई थीl रसोई समेट ही रही थी कि,बेटा खाने आ गयाl
खाना परोसकर उसके साथ ही बैठ गईl २ निवाले बाद ही बेटे ने कहा-`माँ! तुम्हारे जैसी रोटियों का स्वाद किसी के हाथ में नहीं! कितनी नरम रहती हैl कॉलेज में सब दोस्त बोलते हैंl ४ घंटे बाद भी बिल्कुल कड़ी नहीं होती,और कितनी गोल-गोलl`
बेटा बोले जा रहा था और सरला यही सोच रही थी-‘वही रोटी कैसे बदल जाती है जब बेटा खाता है,पति खाता है और सास-ससुर खाते हैं,माँ-बाप खाते हैं तो! रोटी भला कैसे बदलेगी? रोटी नहीं,हाँ शायद आदतें बदल जाती हैं तो रोटियां अलग-अलग हो जाती हैंl किसी को बोलते रहने की आदत,किसी को कमी निकालने की आदत,किसी को लाड़ की आदत,तो किसी को सिर्फ `माँ की आदतl`
वह जानती थी ५ साल बाद उसकी बहू आएगी,तो भी शायद यही होगा! बहू रोटी बनाएगी और शायद वह मीन-मेख निकालेगी! बेटा भी अपनी माँ की तारीफ़ करेगा,और पत्नी की रोटियां कमियों वाली लगेगीl फिर उसके कुछ सालों बाद वही रोटी बहू के बच्चों के लिए दुनिया की सबसे सौंधी रोटी बन जाएगीl
‘यह शायद पीढ़ी-दर-पीढ़ी आगे चलती रहेगी,जैसे पीढ़ी-दर- पीढ़ी चलती आई हैl कोई नहीं सोचेगा कि,जो रोटी बना रहा है वह क्या महसूस करता होगा! उसे तो महसूस करने का शायद अधिकार भी नहींl’
मगर उसने सोचा-इसे कहीं तो रोकना होगाl वो खुद के लिए नहीं रोक पाई,मगर शायद अगले के लिए रोक देl अपने बच्चे को ‘रोटी’ समझाएगी,किसी रिश्ते की आदत या रिवायत नहींl शायद वो ही कुछ बदल दे,ताकि आने वाले सालों में उसके घर में सिर्फ रोटी पके,कोई आदत नहीं…l

                                                                     #स्वाति’वल्लभा राज’

परिचय: स्वाति का वर्तमान पता ऐरलेंगन(जर्मनी)हैl १९८८ में जन्मीं स्वाति का साहित्यिक उपनाम-वल्लभा राज हैl आपका जन्म स्थान-सिवान (बिहार) तथा शिक्षा-एमबीए हैl स्वतंत्र लेखन ही कार्यक्षेत्र हैl सिवान की स्थाई निवासी होकर आप सामाजिक क्षेत्र-गतिविधि में पीरियड्स,यौन शिक्षा,दहेज़, और भ्रूण हत्या सहित कई विषयों पर विद्यालय-महाविद्यालय में सम्बोधन कर चुकी हैंl लेखन की बात करें तो लेख,हास्य, कविता,हाइकु,तांका,चोका और लघुकथा आपकी रुचिगत विधा हैl आप सामाजिक मुद्दों पर ब्लॉग पर भी अपनी बात रखती रहती हैंl कई अखबारों में रचना प्रकाशन के साथ ही आप राष्ट्रीय-क्षेत्रीय पत्रों में स्तम्भ लेखन भी करती हैंl आपकी रचनाओं पर एक पत्रिका,कलरव-साझा हाइकु-तांका संकलन तथा ह्दय तारों का स्पंदन-साझा कविता संकलन भी प्रकाशित हैl आपकी नजर में लेखन का उद्देश्य-सामाजिक समस्याओं पर जागरुकता लाना हैl

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

बेबस लड़की

Sat Sep 2 , 2017
मैं जा रही हूँ पापा, आपके ऊपर कर्ज का भार तिलक और दहेज का भार, खेती और महाजन का भार माँ के ईलाज का भार, इस हाल में मैं क्या करूं? मैं लड़की हूँ, बेबस और लाचार हूँ बिन पंख पक्षी के समान, मैं जा रही हूँ पापाl सड़क पर […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।