मैं दीमक हूँ

Read Time2Seconds
kumari archana
हाँ में दीमक हूँ,
घर दिवारों पर
खिड़कियों पर,
किताबों में
पुरानी समानों पर
मिट्टी के अन्दर
अपना रैनबसरे बना लेती हूँ,
धीरे-धीरे फैलती जाती हूँ
जैसे बरगद की लताएं हों।
मैं कहीं भी जाऊँ,
अपना स्थान घेर लेती हूँ
या यूँ कहें एक सुरक्षित दायरा
बना लेती हूँ,
मैं स्त्री नहीं हूँ
जो आजीवन असुरक्षित रहती हो,
अपने अस्तित्व के लिए।
कोई मुझे जल्दी हिला-डुला नहीं सकता,
उस जगह
उस वस्तु को
उस इन्सान को
जकड़ लेती हूँ,
जब तक अग्नि की लपटों से
भस्म नहीं हो जाती हूँ,
या कृत्रिम प्रयोग से
मुझे नष्ट नहीं किया जाता।
मैं मृत पौधों को,लकड़ी,पत्ती,कूड़े,मिट्टी व जानवरों के गोबर के साथ में,
शक्की इन्सानों के
दिमाग को अपना निशाना बना
धीरे-धीरे उन्हें खोखला कर देती हूँ।
 मैं दिखती नहीं हूँ,
पर शंका का बीज के रूप में
हमेशा लोगों जेह़न में पलती हूँ।
कोई अपना घर खुद ही तोड़ लेता
तो कोई हिंसा पे उतारु होकर
हत्या तक कर बैठता,
तो कोई आंतकवादी ही बन जाता
तो कोई सम्प्रदायवाद की आग
देश में लगा एकता-अखण्डता को खंडित करता,
कोई अपने ही देश से गद्दारी कर
इमान तक बेच देता।
मैं दीमक तो नहीं हूँ,
न ही कभी किताबी कीड़ा रही
पर कागजी कीड़ा रही हूँ,
स्मृति कमजोर होने से
कागजों पर अभ्यास करती थी,
अब भी वही कर रही हूँ
अपनी कविताओं को लिखकर
कागज की कतरन-कतरन को
चुन-चुन कर खा जाती हूँ।
कलम की स्याही से काला कर देती हूँ
फिर मोतियों जैसी शक्ल में
सफेद-सफेद शब्द उकेर आते हैं
कविता बनकर।

                                                                             #कुमारी अर्चना

परिचय: कुमारी अर्चना वर्तमान में राजनीतिक शास्त्र में शोधार्थी है। साथ ही लेखन जारी है यानि विभिन्न पत्र- पत्रिकाओं में निरंतर लिखती हैं। आप बिहार के जिला हरिश्चन्द्रपुर(पूर्णियाँ) की निवासी हैं।

1 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कैसे कहूँ.........

Thu Aug 10 , 2017
किशोरवय के पड़ाव पर पाँव रखती मासूम रजस्वला बेटियाँ मासिक धर्म के जैविक परिवर्तन से यकायक अकस्मात् सयानी हो जाती है,और शारीरिक बदलाव को सहज स्वीकार नहीं कर पाती हैं। मानसिक व शारीरिक संघर्ष की इन चुनौतियों में हर मां का ये दायित्व बनता है कि,बच्चियों से दोस्ताना व्यवहार कर […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।