विश्व जल दिवस

0 0
Read Time43 Second

नदिया न पिये,
कभी अपना जल।
वृक्ष न खाए,
कभी अपना फल।
सभी को देते रहते,
सदा ही फल जल।
नदिया न पिये कभी…।।

न वो देखे जात पात,
और न देखे छोटा बड़ा।
न करते वो भेद भाव,
और न देखे अमीरी गरीबी।
सदा ही रखते समान भाव,
और करते सब पर उपकार।
नदिया पिये कभी…..।।

निरंतर बहती रहती,
चारो दिशाओं में नदियां।
हर मौसम के फल देते,
वृक्ष हमें सदा यहां।
तभी तो प्रकृति की देन कहते,
हम सब लोग उन्हें सदा।
नदिया न पिये कभी…।।

जय जिनेन्द्र देव
संजय जैन (मुम्बई)

matruadmin

Next Post

जल है तो भविष्य उज्जवल है

Mon Mar 22 , 2021
जल है तो भविष्य उज्जवल है, जल नहीं तो केवल कल कल है। कल के लिए जब जल बचाओगे, तभी तुम अपना भविष्य बचाओगे।। जल ही तो केवल जीवो का जीवन है, वरना जल बिन जीवन का मरण है। अगर विश्व में जल कल नहीं होगा, भविष्य निश्चित अंधकार में […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।