जन्म दिवस के अवसर पर युवा साहित्यकार का हुआ सम्मान

0 0
Read Time1 Minute, 48 Second
युवा साहित्यकार अवधेश कुमार निषाद मझवार जी का जन्म दिवस बड़ी ही धूमधाम के साथ मनाया गया |  स्थानीय विधायक जितेंद्र वर्मा जी ने अवधेश जी को शॉल, मोती माला व बुके प्रदान कर उनका सम्मान किया | इसके साथ ही मुकेश कुमार ऋषि वर्मा ने सत् साहित्य भेंटकर अवधेश जी का मनोबल बढ़ाया |

आपको बता दें अवधेश जी फतेहाबाद क्षेत्र के एक उभरते युवा साहित्यकार हैं | इनकी रचनाएं देशभर की तमाम साहित्यिक पत्र-पत्रिकाओं में पढ़ी, देेखीं जा सकती हैं | इसके साथ ही इनके संपादन में स्मारिका युवा – धड़कन का प्रकाशन सफलतापूर्वक संपन्न हो चुका है | कृषक परिवार में जन्मे अवधेश जी इस समय एक स्वास्थ्य कर्मी (संविदा पर) की भूमिका का निर्वहन कर रहे हैं | लॉकडाउन के समय इनकी सेवाएं बहुत ही काबिले तारीफ रहीं | इस समय भी कोरोना योद्धा की हैसियत से कार्य कर रहे हैं |

स्वजनों, आत्मीयजनों के शुभकामना संदेश निरन्तर इन्हें प्राप्त हो रहे हैं | हमारी ओर से भी अवधेश जी को जन्मदिवस की कोटि-कोटि बधाई | ईश्वर कृपा से वे हमेशा स्वस्थ रहें, मस्त रहें, प्रसन्न रहें और इसी तरह अनवरत मां भारती की सेवा करते रहें |

  • मुकेश कुमार ऋषि वर्मा
    ग्राम रिहावली डाक तारौली गुर्जर,
    फतेहाबाद, आगरा

matruadmin

Next Post

किसान जवान अब संग

Wed Jan 6 , 2021
देख किसान की हालत को मोरो मन बहुत दुख रऔ है। काय चुनी ऐसी सरकारखो जिसखो किसानो का दर्द दिखत नाईयै।। कभाऊ खेत में हल न चलाओ। तो क्या जाने खेती और किसानो को हाल। कैसे खेत जोते जाते हैं नेता क्या जाने खेतो को हाल। बैठ वतालुकूल हालो में […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।