बड़ी सोच

0 0
Read Time1 Minute, 31 Second

बड़ी सोच का बड़ा है जादू,
ये जादू कमाल कर जाता है।
बड़ी सोच होती है जिसकी,
वो जग में परचम लहराता है।

अपनी निष्ठा और लगन से,
वो असंभव को संभव करता है।
डिगा ना पाए जिसको निराशा,
आशाओं का ऐसा बांध बनाता है।

ठोकरों से कभी ना बिखरे ,
खुद को फौलाद बनाता है।
आए यदि सुनामी दुःखों की,
तनिक ना वो घबराता है।

सत्य की पावन गंगा जिसके,
दिल में सदा ही बहती है।
नेक इरादों की ज्योति सदा ,
जिसके हृदय में जलती है।

हौंसलों के पंख लगाकर ,
ऊंची उड़ान जो भरता है।
अपने साहस से जग में वो,
हासिल हर मुकाम करता है।

ऊंच नीच और जात पात से,
जिसे कोई फर्क ना पड़ता है।
दीन दुःखी को गले लगाकर,
वो सारे भेद मिटाता है।

सारे जग का कल्याण ही,
जो अपना लक्ष्य बनाता है।
अपने पराए का भेद किए बिन,
सबको जो अपनाता है।

ईश्वर भी खुश होकर उसको,
किस्मत लिखने का हक देता है।
इतिहास के पन्नों पर वो एक दिन,
अपना नाम अमर कर जाता है।

अंतर्मन के दीप जलाकर,
सपने भी कुछ बड़े देखो।
रखकर दिल पर हाथ रेे बंदे,
खुद पर भरोसा करना सीखो।

रचना
सपना (स० अ० )
जनपद औरैया

matruadmin

Next Post

माँ लक्ष्मी की नई आरती

Wed Nov 18 , 2020
आरती करो माँ श्री लक्ष्मी की। आरती करो माँ श्री लक्ष्मी की।। सागर से निकली हैं माता, कमल पुष्प पर सदा विराजें। नवल नित्य शोभा है माँ की, दोनों हाथ कमल-दल साजें। भक्तों पर सुख-संपदा लुटातीं, पोषणकर्ता हैं धरती की।। आरती करो माँ श्री लक्ष्मी की। आरती करो माँ श्री […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।