फ़ौजन का करवाचौथ

0 0
Read Time50 Second

करवाचौथ का त्यौहार आया, हर तरफ धूम मची है!
देखो तो तुम जरा गौर से, फ़ौजन की भी थाली सजी है!!
काजल सिंदूर कंगन बिंदिया, वो पायल भी तो लायी है!
फौजी की लम्बी उम्र को, उसने अपनी देह सजाई है!!
दिल उसका भी मचलता है, बस देखले उसको एक नजर!
ड्यूटी पर तैनात है फ़ौजी, कहाँ है उसको इतनी खबर!!
छलनी में से देख कर तस्वीर, उसका दिल भी तो रोता है!
हजारों मील दूर बॉर्डर पर, जब उसका चांद होता है!!
आबाद रहे फौजी की जिंदगी, “मलिक” यही दुआ करती है!
ये धरती तक भी हिलती है, जब फौजी की लाश गिरती है!!

सुषमा मलिक,
रोहतक (हरियाणा)

matruadmin

Next Post

भूख वाला लाॅकडाउन

Tue Nov 3 , 2020
आज सुबह से ही शर्मा जी अपने घर के मुख्य द्वार के सामने ही बैठे थे । उनकी निगाहें बार-बार सड़क की ओर चली जातीं पर सारी सड़क तो सूनी थी । कोई चहल पहल नहीं थी । सुनसान सड़क को देखने की अब तो उनकी आदत हो गई । […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।