आलिंगन

Read Time1Second

पृथक् थी प्रकृति हमारी
भिन्न था एक-दूसरे से श्रम
ईंट के जैसी सख़्त थी वो
और मैं था सीमेंट-सा नरम

भूख थी उसको केवल भावों की
मैं था जन्मों-से प्रेम का प्यासा
जगत् बोले जाति-धर्म की बोली
हम समझते थे प्यार की भाषा

प्रेम अपार था हम दोनों में मगर
ना जाने क्यों नहीं होता था हमारा मिलन
पड़ा प्रेम का जल ज्यों ही हम पर
सीमेंट संग ईंट सा हुआ दृढ़ आलिंगन

आलोक कौशिक
बेगूसराय(बिहार)

1 0

matruadmin

Next Post

हे विद्या की देवी

Sat Sep 19 , 2020
हे विद्या की देवी हिंदी तुझे पुकारता जग सारा तेरे शब्द भंडार है अतुल्य।। चारों तरफ आलोक है तेरा तीन रंगों की महिमा धारी वात्सल्य की सी मूर्ति खड़ी।। गुणगान करे शक्ति स्वरूपा का सरस्वती हिंदी काया छाया का कलमधारी न्यारी चित्रित रूपा का।। वंदन करे अब हर भारती अब […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।