भारत देश

Read Time1Second

भारत देश हमारा है,
विश्व मे सबसे न्यारा है….

हिन्दू, मुस्लिम, सिक्ख, ईसाई,
इसमे सब त्योहार मनाते है!
मंदिर, मस्जिद, तीर्थ, द्वारे,
सब मिलकर सजाये जाते हैं!!

स्वतंत्रता या गणतंत्र दिवस हो,
यहां तिरंगा फहराया जाता है!
बड़ी धूमधाम के साथ इसमें,
हर त्यौहार मनाया जाता है!!

भिन्न-भिन्न तरह की भाषा यहां,
भिन्न-भिन्न तरह का बाणा है!
भिन्न-भिन्न हैं रंग-रूप इसमें,
भिन्न-भिन्न तरह का खाणा है!!

गर्व है मुझे मेरे देश पर,
मेरा भारत देश महान है!
तिरंगा झंडा भारत की,
आन,बान और शान है!!

लहराता रहे तिरंगा हमेशा,
ये कभी भी ना झुकने पाए!
प्रगति की तरफ बढ़ते कदम,
मेरे देश के ना रुकने पाए!!

सुषमा मलिक,
रोहतक (हरियाणा)

1 0

matruadmin

Next Post

साहित्यिक संस्था व्यंग्यम् का पुनर्गठन फिर से अनिता मंदिलवार सपना अध्यक्ष बनी

Fri Aug 14 , 2020
माँ महामाया की पावन नगरी सरगुजा अम्बिकापुर में *व्यग्यंम्* संस्था का गठन सन् 1996 में किया गया है।इसका उद्देश्य रचनाकारों और  कलाकारों, की प्रतिभा को उभार कर मंच प्रदान है।इस संस्था की प्रथम कार्यकारिणी में संरक्षक आदरणीय  डॉ.सपन सिन्हा,अध्यक्ष श्री राजेन्द्र सिंह ‘अभिन्न’ उपाध्यक्ष अनिता मंदिलवार सपना, सचिव श्री स्मृतिशेष […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।