दुर्गा रूपी नारी

Read Time0Seconds

बहुत हो गया धैर्य साहब
शस्त्र उठाने आई हूँ।
नारी की चित्कार नहीं
हुँकार सुनाने आई हूँ।।

१) कभी गार्गी कभी अपाला
कभी विदुषी बन आई हूँ।
नारी को तू हाथ लगाये
झाँसी की तलवार मैं लाई हूँ।।

२) कभी लक्ष्मी कभी सरस्वती
कभी दुर्गा बन आई हूँ।
नंगा नाच दिखाये जब तू
रणचण्डी बन मैं आई हूँ।।

३) नारी का सम्मान करे जब
सावित्री बन आई हूँ।
जिस्म नोचकर जब तू खाये
काली का खप्पर लाई हूँ।।

४) कौशल्या का सम्मान करे तो
राम रूप में जाई हूँ।
गर बू जो काम दाम की आवे
*सीमा को जग में लाई हूँ।।

५) एक चीख भी अगर सुनी तो
तुम न बचने पाओगे।
इस बार अकेली एक नहीं
मैं सौ दुर्गा को लाई हूँ।
मैं सौ दुर्गा को लाई हूँ।।

नोट-सीमा(इण्डियन कमाण्डो ट्रेनर)

आयुषी अग्रवाल (स०अ०)
कम्पोजि़ट विद्यालय शेखूपुर खास
वि० क्षे०- कुन्दरकी(मुरादाबाद)
पता- रामलीला मैदान के सामने, कुन्दरकी

1 0

matruadmin

Next Post

आओ हिंदी-हिंदी खेलें।

Sun Aug 2 , 2020
विश्व में जितनी संस्थाएं हिंदी की सेवा के लिए बनी हुई हैं, उतनी संस्थाएँ किसी अन्य भाषा के लिए नहीं हैं। जितने संवैधानिक प्रावधान, अधिनियम, नियम आदि और संसदीय समिति सहित तरह-तरह की समितियां, संगठन और हिंदी के विकास व प्रसार के लिए संघ सरकार और विभिन्न राज्यों में भाषा […]