फिर भी हम जगतगुरू

Read Time3Seconds

आज जनतंत्र-धनतंत्र हो गया ,
सुजनतंत्र- स्वजनतंत्र हो गया।
लोकतंत्र-थोकतंत्र बन गया ,
रामराज्य अब दामराज्य हो गया।
यह प्रजातंत्र ,
चन्द लोगों के लिए मजातंत्र है ,
बाकी लोगों के लिए सजातंत्र।
सस्ती के साथ मस्ती चली गयी,
और लाइफ को फाइल खा गई।
मूल्यवृध्दि, शुल्कवृध्दि, करवृध्दि से
कष्टवृध्दि हो रहा है ।
अफसर अजगर के प्रतिरूप हो गए,
एक बार फुफकारकर,
सीधे निगल जाते हैं।
हड़ताल अब हर ताल हो गया ,
न जाने कब ताण्डव शुरू हो जाय।
भरपेट भोजन प्लेटभर हो गया,
गोरस का स्थान कोरस ने ले लिया।

प्रेम सट्टा बाजार का सौदा हो गया,
विद्युत स्विच की भाँति,
जब चाहो ऑन करो,
जब चाहो ऑफ
वह चरमकोटि से चर्मकोटि पर आ गया।

यहाँ भाषण की अधिकता है,
राशन की न्यूनता।
महादेव क्षीरसागर में गोते लगा रहे हैं,
कुपोषित बच्चे यमराज को गले लगा रहे हैं।
क्षुधामृत्यु-वृथामृत्यु हो गई।
फिर भी,
हम जगतगुरू हैं,
महान हैं,प्रगति पर हैं।

किसमत्ती चौरसिया ‘स्नेहा’

परिचय –
सम्प्रति इलाहाबाद विश्वविद्यालय में डॉ. विजय कुमार रविदास के शोध निर्देशन में अब्दुल बिस्मिलाह के कथा साहित्य पर शोधकार्य में संलग्न हैं। जन्मतिथि १९जुलाई १९९७ और जन्मस्थान ग्राम कनेरी फूलपुर आजमगढ़ उत्तर प्रदेश है। पिता जी का नाम रामदवर चौरसिया और माता का नाम मोहनी देवी है। आजमगढ़ में गांव से ही स्नातक तक की शिक्षा प्राप्त किया है। स्नातकोत्तर की शिक्षा काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से वर्ष २०१७-१९ में प्राप्त किया।इसके अतिरिक्त एनएसएस, कम्यूटर डिप्लोमा CCC और DCA भी किया है। पढ़ाई के साथ- साथ कविताएं एवं गीत लिखने का शौक है। कुछ कविताएं राष्ट्रीय- अंतरराष्ट्रीय समाचार पत्र- पत्रिकाओं में भी प्रकाशित हुई हैं।

1 0

matruadmin

Next Post

महत्त्व

Tue Jul 21 , 2020
भूत – भविष्य की चक्की में पिस रही ज़िन्दगी, कौन समझता है- वर्तमान का महत्त्व दुख – दर्द की कहानी बन जाए उपन्यास, कौन समझता है – मुस्कान का महत्त्व जमाने की खुशी हेतु जान दे दी उसने, कौन समझता है यहां जान का महत्त्व, पसीने की खुशबू से भी […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।