पावन जल

Read Time1Second

नदियों के पावन जल को स्वच्छ हम बनाएँ,
कारखानों से घातक निकला रसायन नहीं बहाएँ।
नहीं मूर्तियों, प्रतिमाओं का करें विसर्जन,
सड़े गले फूलों का ज़हर नहीं मिलाएँ।।

फूलों का खाद बना धरा की उर्वरता विकसाएँ,
कृत्रिम रँग है नुकसान देह बात समझ जाएँ।
नदियों के तट पर करे वृक्षारोपण,
प्रकृति को हरीतिमा की चादर ओढ़ाएँ।।

अंशु प्रिया अग्रवाल

परिचय

नाम- अंशु प्रिया अग्रवाल

स्थान- मस्कट ओमान

जन्म स्थान- रांची, झारखंड

शिक्षा – एमबीए फाइनेंस, रसायन शास्त्र से स्नातक की डिग्री

सम्मान- राष्ट्रीय कृत बैंक द्वारा आयोजित विभिन्न साहित्यिक प्रतियोगिताओं में सम्मानित, रिज़र्व बैंक की पत्रिका बैंकिंग चिंतन अनुचिंतन में बहुत सारे लेख प्रकाशित, विभिन्न मंचों द्वारा सम्मानित।

भारतीय दूतावास के द्वारा वैदिक गणित के लिए सम्मानित और बहुत सारे गतिविधियों में बहुत सारी प्रतियोगिताओं में सम्मानित।

1 0

matruadmin

Next Post

तुम

Sun Jun 21 , 2020
सामने तुम भगवान सदृश प्रणाम तुम्हें। हमारा तन मन धन अर्पण सब तुमको। दीप प्रेम का सालों से लगातार जलता रहा। सम्मुख तुम अभिराम नयन शांत हृदय। बस चाहिए आखिरी साँस तक साथ तुम्हारा। #सरिता गुप्ता, पोरसा परिचय नाम – सरिता गुप्ता पिता का नाम – श्री वेद प्रकाश गुप्ता […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।