जनता कर्फ़यु के दिन क्या करे —आर के रस्तोगी

Read Time0Seconds

जैसा कि सभी देशवासियों को विदित है कि हमारे देश में दिनांक 22-03-2020 दिन रविवार को सुभह 7 बजे से लेकर रात्री के 9 बजे तक हमारे प्रिय प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के आह्वान पर देश की जनता के हित के लिये व कोरोना वायरस से बचने के लिये जनता कर्फ़यु लगाने का आयोजन किया जा रहा है | मेरे आप सभी लोगो से करवध प्रार्थना है कि आप इस जनता कर्फ़यु को जरा भी पैनिक के रूप में न ले बल्कि आनन्द व उत्साह के साथ एक त्यौहार अथवा फेस्टिवल के रूप में मनाये | इस दिन एक क्षण के लिये जरा भी पैनिक न बढाये बल्कि सबका उत्साह बढाये | इस उत्साह से आपकी शक्ति व एनर्जी बढ़ेगी जो कि इस कोरोना वायरस को कम करने तथा अन्त में बिल्कुल समाप्त करने में आप सबको मदद मिलेगी | इस जनता कर्फ़यु को अधिक से अधिक एन्जॉय करे तथ जरा भी अपने मस्तिष्क में पैनिक न लाये और सफल बनाये || अब इस एंजोयमेंट के लिये हम अपने घर में क्या करे इसक पहले से ही प्लानिंग या नियोजन कर सकते है | इस सम्बन्ध में मेरे कुछ विचारमस्तिस्क में आ रहे है उनको क्रमबद्ध लिखने का प्रयत्न कर रहा हूँ जो सभी के लिये हितकारी होगा |
22 मार्च यानि इस आने वाल रविवार को अपने हिसाब से कार्य करे और उठे जैसा कि आप दिन प्रतिदिन उठते है | अगर यदि चाहे तो कुछ देr से भी उठ सकते है जरुरी नहीं है कि आप सुबह पांच या छ; बजे ही उठे |
उठने के पश्चात अपने दिन प्रतिदिन की किर्याओ से निवृत हो तथा तत्पश्चत नहां धोये और साफ़ सुथरे वस्त्र पहन कर कुछ समय भगवान् का ध्यानं या भजन करे या अपने धर्म के अनुसार अपने इष्ट देव को याद करे और उससे प्रार्थना करे कि वह हम सभी देशवासियों पर कृपा व करुणा करे और कोरोना वायरस से जल्द से जल्द छुटकारा दिलाये ,ताकि हम सभी स्वस्थ रहे और हमारा चित्त प्रसन्न रहे और हमारा देश उन्नति के पथ पर आगे बढ़ता रहे और हमार देश विश्व गुरु कहलाये |अगर हो सके तो इस दिन रामायण का सुंदर कांड का पाठ करे या परिवार में भजन सुनने और सुनाने का प्रोग्राम बनाये| इस भजन प्रोग्राम में छोटे मोटे वाद्य यंत्रो का उप्गोग कर सकते है जो की अपने घर में उपलब्ध हो | अगर कोई भी वाद्य यंत्र न हो तो थाली या कटोरी आदि भी बजा सकते है | अगर चाहे तो आपके मोबाइल में बहुत से भजनों या धार्मिक गीतों का विडिओ हो तो परिवार के साथ शुरू कर सकते है
भजन के बाद परिवार की रूचि के अनुसार नाश्ता आदि करे | मेरा अनुरोध यह है कि इस दिन नाश्ता परिवार के साथ करे चूकि और किसी दिन यह अवसर या मौका नहीं मिलता क्योकि परिवार के सदस्य अपने कार्य के समय के अनुसार नाश्ता आदि करते है |अगर आप चाहे तो नाश्ता करने का बाद भी भजन या संगीत का प्रोग्राम रख सकते है | भजन या कीर्तन के बाद कुछ समय के लिये आराम भी कर सकते है | अगर भजन कीर्तन आदि में रूचि न हो तो आप कोई भी प्रोग्राम रख सकते है
चूकी यह मार्च का महीना है तो आप अपनी आय व्यय का लेखा जोखा भी बना सकते है और टेक्स की प्लानिंग भी कर सकते और अपनी आय कर /इनकम टेक्स की तैयारी भी कर सकते है ||
दोपहर में अपपनी रूचि के अनुसार भोजन बनाये इसकी तैयारी पहले से कर ले और परिवार के सभी सदस्य एक साथ बैठकर भोजन करे | अच्छा तो यह होगा कि हरेक सदस्य एक एक ग्रास एक दूजे को अपने हाथ से खिलाये इससे परिवार में स्नेह और प्यार बढेगा | अगर उचित समझे तो लंच के बाद एक या दो घंटे आराम करे |या अपनी रूचि अनुसार कुछ किताबे पढ़े या संगीत का आन्नद उठाये |
जैसे ही घड़ी में पांच बजे तो थोडा सा अपने घर के बाहर दरवाजे पर निकले या अपने घर की बालकनी में खड़े होकर या बैठकर कम से कम पंच मिनिट तक अपने दोनों हाथो से ताली बजाये या कटोरी या थाली बजाए जो कि उन सभी व्यक्तियों के लिये सम्मान या आभार प्रगट करने का सूचक होगा जो कि इस बुरे समय में भी अपनी जान के परवाह करे बिना ही आपकी सेवा कर रहे या तत्पर रहते है जैसे डॉक्टर्स,नर्स,ड्राइवर्स,बैंकर्स,सफाई कर्मचारी,अखवार वाले,मीडिया वाले तथा आवशयक चीजे या सेवा प्रदान करने वाले जैसे दूध वाले,फल सब्जी वाले आदि आदि |
इस कार्यक्रम के पश्चात आप अपने पुराने परिचित मित्र व रिश्तदारो को अपने घर से फोन या मोबाइल द्वारा उनको फोन करे और उनका हाल चल और कुशल मंगल पूछे और अपने पुराने संस्मरणों की याद दिलाये और उनके सभी परिवार सदस्यों की अच्छे स्वास्थ्य की कामना करे | जिस प्रकार आप कभी त्योहारों पर उनको याद करते और शुभकामनाये देते है उसी प्रकार से उनको याद करे और स्वस्थ रहने की शुभकामना दे | ऐसा करने से आपस में प्रेम भाव बढ़ता और समय पड़ने पर एक दूजे के काम आते |
सभी को शुभकामनाओ के साथ |
आपका अपना
आर के रस्तोगी गुरुग्राम

0 0

matruadmin

Next Post

जनता कर्फ्यू

Tue Mar 24 , 2020
कोरोनो वायरस का यह डर , सबके मन में है समाई । इसीलिये जनता कर्फ्यू है , घर से नहीं निकलना भाई ।।1।। एक दिवस का कर्फ्यू ऑर्डर , जन – गण – मन की हौंसला है । कोरोनो वायरस रोकने का , विश्व में चर्चित फैसला है ।।2।। सबके […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।