जनता की जागरूकता और भारतीय गणतंत्र

Read Time5Seconds

हर साल गणतंत्र दिवस पर पूरे देश यह नारा लगता है अमर रहे गणतंत्र हमारा लेकिन कैसे ?बड़ा महत्वपूर्ण प्रश्न है।भारत का इतिहास गणतंत्र के मामले में बहुत पुराना है।बालि जरासन्ध कंस दुर्योधन नन्द जैसे राजा गणतंत्र को कमजोर या समाप्त करने के प्रयास करते रहे पर जनसमर्थन योग्य राजनीतिज्ञों-कूटनीतिज्ञों ने सबके प्रयास असफल कर लोकतंत्र तो बचाया ही राष्ट्र और समाज का अहित भी कम से कम होने दिया।वर्तमान विश्व में अनेक गणतंत्र हैं सबकी अपनी अपनी व्यवस्थायें शासन प्रणालियां हैं जहां जहां सत्ता व सत्ता में बैठे लोग कमजोर हुए जनता ने गलत निर्णय किया वहां या उन देशों में गणतंत्र की कई कई बार हत्या हुई सरकारें और सरकार में बैठे लोग अपदस्थ हुए अथवा किये गयें।पर हमारे भारत देश में ऐसा संकट न पहले कभी था न अब है और न आगे कभी होगा।यह हमारे लोकतांत्रिक मूल्यों परम्पराओं की परिवक्वता का परिचायक तो है ही साथ ही हमारे संविधान व उसमें निहित तत्वों की विशिष्टता भी।दुनियां का सबसे बड़ा लोकतंत्र होने के बाद भी हमारी शासन प्रणाली के अंगों की परिपक्वता इसको कमजोर नहीं होने देती।सारे अंग चाहें कार्यपालिका हो विधायिका या न्यायपालिका सब आपस में जुड़ें हैं और मिलकर कभी कभी एक दूसरे पर दृष्टि रख इसको कमजोर नहीं होने देते इनका संतुलन हमारे देश की देश के गणतंत्र की सबसे बड़ी ताकत है जो हमको दुनियां के अन्य गणतंत्रों से अलग करती है।पानी के बुलबुलों की भांति लगने वाले झटके इसको कमजोर नहीं कर पाते।
हमारे गणतंत्र में संविधान हमें अधिकार ही नहीं देता अपितु कर्तव्य की ओर भी उन्मुख करता है।हमारा जीवन दो तरह से है एक अपने अपनों के लिए और दूसरा देश के लिए।देश के लिए जो हमारा जीवन है उसको जीने का तरीका और उसमें गम्भीरता निष्ठा ही गणतंत्र की मजबूती का आधार है।कई बार हमारे देश में कई क्षेत्रीय मुद्दों पर या अन्य कई अवसरों पर कुछ क्षेत्रीय राष्ट्रीय दलों ने संघ से अलग राय रख कमजोर करने प्रयास किया है।ऐसा दिखाने का प्रयास किया है कि हमें केन्द्र की सरकार या उसकी सहायता की आवश्यकता नहीं।कई मामलों में केन्द्र से अलग राय रख दी ।पर राष्ट्रीय स्तर पर जनसमर्थन न मिलने जनता द्वारा बार बार नकार दिये जाने से ऐसे तत्वों को कमजोर होना पड़ा अन्यथा क्षेत्रवाद भाषावाद वर्गवाद और क्षेत्रीय मुद्दों पर अलग दृष्टिकोण बहुत नुकसान कर देता।
वास्तव में गणतंत्र में संविधान एक बीज की तरह है जिसको पल्लवित पुष्पित और फलित करने का काम जनता का है जिसको कि भारतीय जनमानस ने समय समय पर भली-भांति किया हैं कई बार देश की राजनीति व उसमें घुस रही क्षुद्रता को सबक भी सिखा दिया।उसको अपनी ताकत का अनुभव करवा दिया।सांप सीढ़ी के खेल की भांति ऐसे तत्वों का राजनीतिक फलक पर ऊपर नीचे करती रही।सावधान हो सुधर जाओ का संकेत भी दिया।हालांकि नब्बे के दशक के बाद तेजी से गिरते राजनीतिक स्तर को न रोका जा सका।कई दल केवल सत्तासुख के लिए अपने को अपनी नीति और नियत को बदलते रहे।कई बार ऐसा आभास हुआ कि कुछ देश के जनमानस की अपेक्षाओं देश के प्रति कम दुश्मन देशों के हाथों अधिक खेल रहे हैं।जिस पर देश में आक्रोश विशेषकर युवाओं में देखा गया।इससे कई बड़े आन्दोलन भी खड़े हुए आम जनता तेजी से उनसे जुड़ी भी।
इसीलिए अमर रहे भारतीय गणतंत्र के सन्दर्भ में मेरा मानना है कि चूंकि जनता जनप्रतिनिधि चुनती है इसलिए उसकी सहभागिता जागरूकता व मतदान में शतप्रतिशत भागीदारी देश- समाज हित अपने निजी स्वार्थ से ऊपर उठकर सहयोग-असहयोग का प्रदर्शन सबसे महत्वपूर्ण है।जब देश में हो रहे चुनावों में जनप्रतिनिधियों के साथ-साथ जनता द्वारा भी जातिवर्ग और क्षेत्र के आधार मतदान किया जाता है या राजनीति होती है तो कष्ट होता है।यह प्रश्न उठता है कि हमारे पढ़े लिखे इक्कीसवीं सदी में होने से क्या लाभ? जब हम निर्णय सामन्तवाद जाति आधारित व्यवस्था से ले रहे हों।अतः जनता के जागरूक होने के साथ-साथ देश के विविध जनसंचार माध्यमों को अपनी भूमिका निष्पक्षता निडरता के साथ निभानी चाहिए जो केवल निभायी जाये अपितु जनता को दिखे भी।तभी उद्देश्य सार्थक होगा अन्यथा अपनी ढपली अपना राग से कुछ अधिक न होगा जैसाकि आजकल कुछ माध्यम करते हैं और उन पर इसका ठप्पा भी लगता रहता है।
अन्त में यही कहना चाहूंगा कि जनता के साथ साथ जनसंचार माध्यमों सोशल मीडिया का बड़ा दायित्व है कि सजगता से अपना दायित्व निभायें। तभी सत्ता व सत्ता में बैठे लोग सावधान रहेंगे गणतंत्र शासन व्यवस्था का लाभ गांधी जी के सपने के अनुसार आखिरी व्यक्ति तक पहुंचेगा और हमारा गणतंत्र अधिकाधिक मजबूत जीवन्त और अमर होगा।

#शशांक मिश्र

परिचय:शशांक मिश्र का साहित्यिक नाम `भारती` और जन्मतिथि १४ मई १९७३ है। इनका जन्मस्थान मुरछा-शहर शाहजहांपुर(उत्तरप्रदेश) है। वर्तमान में बड़ागांव के हिन्दी सदन (शाहजहांपुर)में रहते हैं। भारती की शिक्ष-एम.ए. (हिन्दी,संस्कृत व भूगोल) सहित विद्यावाचस्पति-द्वय,विद्यासागर,बी.एड.एवं सी.आई.जी. भी है। आप कार्यक्षेत्र के तौर पर संस्कृत राजकीय महाविद्यालय (उत्तराखण्ड) में प्रवक्ता हैं। सामाजिक क्षेत्र-में पर्यावरण,पल्स पोलियो उन्मूलन के लिए कार्य करने के अलावा हिन्दी में सर्वाधिक अंक लाने वाले छात्र-छात्राओं को नकद सहित अन्य सम्मान भी दिया है। १९९१ से लगभग सभी विधाओं में लिखना जारी है। श्री मिश्र की कई पुस्तकें प्रकाशित हैं। इसमें उल्लेखनीय नाम-हम बच्चे(बाल गीत संग्रह २००१),पर्यावरण की कविताएं(२००४),बिना बिचारे का फल (२००६),मुखिया का चुनाव(बालकथा संग्रह-२०१०) और माध्यमिक शिक्षा और मैं(निबन्ध २०१५) आदि हैं। आपके खाते में संपादित कृतियाँ भी हैं,जिसमें बाल साहित्यांक,काव्य संकलन,कविता संचयन-२००७ और अभा कविता संचयन २०१० आदि हैं। सम्मान के रूप में आपको करीब ३० संस्थाओं ने सम्मानित किया है तो नई दिल्ली में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर वरिष्ठ वर्ग निबन्ध प्रतियोगिता में तृतीय पुरस्कार-१९९६ भी मिला है। ऐसे ही हरियाणा द्वारा आयोजित तीसरी अ.भा.हाइकु प्रतियोगिता २००३ में प्रथम स्थान,लघुकथा प्रतियोगिता २००८ में सर्वश्रेष्ठ प्रस्तुति सम्मान, अ.भा.लघुकथा प्रति.में सराहनीय पुरस्कार के साथ ही विद्यालयी शिक्षा विभाग(उत्तराखण्ड)द्वारा दीनदयाल शैक्षिक उत्कृष्टता पुरस्कार-२०१० और अ.भा.लघुकथा प्रतियोगिता २०११ में सांत्वना पुरस्कार भी दिया गया है। आप ब्लॉग पर भी सक्रिय हैं। आप अपनी उपलब्धि पुस्तकालयों व जरूरतमन्दों को उपयोगी पुस्तकें निःशुल्क उपलब्ध करानाही मानते हैं। आपके लेखन का उद्देश्य-समाज तथा देशहित में कुछ करना है।

1 0

matruadmin

Next Post

शादी

Sat Jan 25 , 2020
गये थे एक बारात में में अपने मिलने वालों की। वहां जाकर पता चला ये तो आदर्श ब्याहा है। जिसमें कई चीजें मुझे बहुत अच्छी लगी। फिजूल खर्च इसमें बिल्कुल भी नही था। ये आज के जमाने के, बिल्कुल विपरीत था। और ये जैन समाज के लिए बड़ी बात है। […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।