हम हों राम…..राम हो हारे

Read Time7Seconds

. (१६ मात्रिक गीत)
. 🤷‍♀🤷‍♀
बहुत जलाए पुतले मिलकर,
अब तो मन का रावण मारे।

जन्म लिये तब लगे राम से,
खेले कृष्ण कन्हैया लगते।
जल्दी ही वे लाड़ गये सब,
विद्यालय में पढ़ने भगते।
मिल के पढ़ते पाठ विहँसते,
खेले भी हम साँझ सकारे।
मन का मैं अब लगा सताने,
अब तो मन का रावण मारें।

होते युवा विपुल भ्रम पाले,
खोया समय सनेह खोजते।
रोजी रोटी और गृहस्थी,
कर्तव्यों के सुफल सोचते।
अपना और पराया समझे,
सहते करते मन तकरारें।
बढ़ते मन के कलुष ईर्ष्या,
अब तो मन के रावण मारें।

हारे विवश जवानी जी कर,
नील कंठ खुद ही बन बैठे।
जरासंधि फिर देख बुढ़ापा,
जाने समझे फिर भी ऐंठे।
दसचिंता दसदिशि दसबाधा,
दस कंधे मानेे मन हारे,
बचे नहीं दस दंत मुखों में,
अब तो मन के रावण मारें।

जाने कितनी गई पीढ़ियाँ,
सुने राम रावण की बातें।
सीता का भी हरण हो रहा,
रावण से मन वे सब घातें।
अब तो मन के राम जगालें,
अंतर मन के कपट संहारें।
कब तक पुतले दहन करेंगे,
अब तो मन के रावण मारें।

रावण अंश वंश कब बीते,
रोज नवीन सिकंदर आते।
मन में रावण सब के जिंदे,
मानो राम, आज पछताते।
लगता इतने पुतले जलते,
हम हों राम, राम हों हारे।
देश धरा मानवता हित में,
अब तो मन के रावण मारें।

बहुत जलाए पुतले मिलकर,
अब तो मन के रावण मारें।

नाम–बाबू लाल शर्मा 
साहित्यिक उपनाम- बौहरा
जन्म स्थान – सिकन्दरा, दौसा(राज.)
वर्तमान पता- सिकन्दरा, दौसा (राज.)
राज्य- राजस्थान
शिक्षा-M.A, B.ED.
कार्यक्षेत्र- व.अध्यापक,राजकीय सेवा
सामाजिक क्षेत्र- बेटी बचाओ ..बेटी पढाओ अभियान,सामाजिक सुधार
लेखन विधा -कविता, कहानी,उपन्यास,दोहे
सम्मान-शिक्षा एवं साक्षरता के क्षेत्र मे पुरस्कृत
अन्य उपलब्धियाँ- स्वैच्छिक.. बेटी बचाओ.. बेटी पढाओ अभियान
लेखन का उद्देश्य-विद्यार्थी-बेटियों के हितार्थ,हिन्दी सेवा एवं स्वान्तः सुखायः 

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पुरानी यादें

Thu Oct 10 , 2019
मन आज बहुत उदास है दिल मे आज भी प्यास है। कैसे कहे हम उनको की हमे तुम से प्यार है। मिलते 2 वर्षो बीत गए पर बात दिल की कह न सके।। उम्र के इस पड़ाव पर भी वो हमें याद है। कहा है और कैसे होंगे, कुछ भी […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।